ye kis karne ka fal hoga kaisi rut mein jaage ham | ये किस करनी का फल होगा कैसी रुत में जागे हम - Ahsan Yusuf Zai

ye kis karne ka fal hoga kaisi rut mein jaage ham
tez nukeeli talwaaron ke beech mein kacche dhaage ham

tahni tahni jhool rahi hain laashein zinda patton ki
kya is nazzare ki khaatir jungle jungle bhaage ham

jaltee dhoopein pyaasa panchi nahar kinaare utarega
jab bhi koi zakham dikha hai ang piya ke laage ham

apni hi pehchaan nahin to saaye ki pehchaan kahaan
chappaa chappaa deewarein hain kya dekhenge aage ham

sab ke aangan jhaankne waale ham se hi kyun bair tujhe
kab tak tera rasta dekhen saari raat ke jaage ham

ये किस करनी का फल होगा कैसी रुत में जागे हम
तेज़ नुकीली तलवारों के बीच में कच्चे धागे हम

टहनी टहनी झूल रही हैं लाशें ज़िंदा पत्तों की
क्या इस नज़्ज़ारे की ख़ातिर जंगल जंगल भागे हम

जलती धूपें प्यासा पंछी नहर किनारे उतरेगा
जब भी कोई ज़ख़्म दिखा है अंग पिया के लागे हम

अपनी ही पहचान नहीं तो साए की पहचान कहाँ
चप्पा चप्पा दीवारें हैं क्या देखेंगे आगे हम

सब के आँगन झाँकने वाले हम से ही क्यूँ बैर तुझे
कब तक तेरा रस्ता देखें सारी रात के जागे हम

- Ahsan Yusuf Zai
0 Likes

Environment Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahsan Yusuf Zai

As you were reading Shayari by Ahsan Yusuf Zai

Similar Writers

our suggestion based on Ahsan Yusuf Zai

Similar Moods

As you were reading Environment Shayari Shayari