khwaab ka khwaab haqeeqat ki haqeeqat samjhen | ख़्वाब का ख़्वाब हक़ीक़त की हक़ीक़त समझें - Ali Zaryoun

khwaab ka khwaab haqeeqat ki haqeeqat samjhen
ye samajhna hai to phir pehle tareeqat samjhen

main jawaaban bhi jinhen gaali nahin deta vo log
meri jaanib se ise khaas mohabbat samjhen

main to mar kar bhi na bechoonga kabhi yaar ka naam
aap taajir hain numaish ko ibadat samjhen

main kisi beech ke raaste se nahin pahuncha yahan
haasido se ye guzarish hai riyaazat samjhen

mera be-saakhta-pan un ke liye khatra hai
saakhta log mujhe kyun na museebat samjhen

facebook waqt agar de to ye pyaare bacche
apne khaamosh buzurgon ki shikaayat samjhen

pesh karta hoon main khud apni giriftaari ali
un se kehna ki mujhe zer-e-hiraasat samjhen

ख़्वाब का ख़्वाब हक़ीक़त की हक़ीक़त समझें
ये समझना है तो फिर पहले तरीक़त समझें

मैं जवाबन भी जिन्हें गाली नहीं देता वो लोग
मेरी जानिब से इसे ख़ास मोहब्बत समझें

मैं तो मर कर भी न बेचूँगा कभी यार का नाम
आप ताजिर हैं नुमाइश को इबादत समझें

मैं किसी बीच के रस्ते से नहीं पहुँचा यहाँ
हासिदों से ये गुज़ारिश है रियाज़त समझें

मेरा बे-साख़्ता-पन उन के लिए ख़तरा है
साख़्ता लोग मुझे क्यूँ न मुसीबत समझें

फेसबुक वक़्त अगर दे तो ये प्यारे बच्चे
अपने ख़ामोश बुज़ुर्गों की शिकायत समझें

पेश करता हूँ मैं ख़ुद अपनी गिरफ़्तारी 'अली'
उन से कहना कि मुझे ज़ेर-ए-हिरासत समझें

- Ali Zaryoun
13 Likes

Fantasy Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ali Zaryoun

As you were reading Shayari by Ali Zaryoun

Similar Writers

our suggestion based on Ali Zaryoun

Similar Moods

As you were reading Fantasy Shayari Shayari