saaz taiyaar kar raha hoon main | साज़ तैयार कर रहा हूँ मैं - Ali Zaryoun

saaz taiyaar kar raha hoon main
aur khabardaar kar raha hoon main

tumko shaayad bura lage lekin
dekh ke pyaar kar raha hoon main

haan nahin chahiye ye taaj aur takht
saaf inkaar kar raha hoon main

koi jaakar use bata to de
jiska kirdaar kar raha hoon main

aaj se khud ko teri haalat se
dastbardaar kar raha hoon main

do jahaan mujhko mil rahe hain magar
tujh par israar kar raha hoon main

साज़ तैयार कर रहा हूँ मैं
और खबरदार कर रहा हूँ मैं

तुमको शायद बुरा लगे, लेकिन
देख के प्यार कर रहा हूँ मैं

हाँ! नहीं चाहिए ये ताज और तख़्त
साफ़ इन्कार कर रहा हूँ मैं

कोई जाकर उसे बता तो दे
जिसका किरदार कर रहा हूँ मैं

आज से, खुद को तेरी हालत से
दस्तबरदार कर रहा हूँ मैं

दो जहाँ मुझको मिल रहे हैं, मगर
तुझ पर इसरार कर रहा हूँ मैं

- Ali Zaryoun
8 Likes

Raushni Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ali Zaryoun

As you were reading Shayari by Ali Zaryoun

Similar Writers

our suggestion based on Ali Zaryoun

Similar Moods

As you were reading Raushni Shayari Shayari