ghubaar-o-gard ne samjha hai rehnuma mujh ko | ग़ुबार-ओ-गर्द ने समझा है रहनुमा मुझ को - Ameeq Hanafi

ghubaar-o-gard ne samjha hai rehnuma mujh ko
talash karta fira hai ye qaafila mujh ko

taveel raah-e-safar par hain phoot phoot pada
na kyun samjhte mere pair aablaa mujh ko

shikast-e-dil ki sada hoon bikhar bhi jaane de
khutoot-o-rang ki zanjeer mat pinhaa mujh ko

zameen par hai samundar falak pe abr-e-ghubaar
utaarti hai kahaan dekhiye hawa mujh ko

sukoot tark-e-ta'alluq ka ik garaan lamha
bana gaya hai sadaaon ka silsila mujh ko

vo door door se ab kyun mujhe jalata hai
qareeb aa ke bahut jo bujha gaya mujh ko

racha ke ek tilism-e-sawaabit-o-sayyaar
kashish mein apni bulane laga khala mujh ko

ग़ुबार-ओ-गर्द ने समझा है रहनुमा मुझ को
तलाश करता फिरा है ये क़ाफ़िला मुझ को

तवील राह-ए-सफ़र पर हैं फूट फूट पड़ा
न क्यूँ समझते मिरे पैर आबला मुझ को

शिकस्त-ए-दिल की सदा हूँ बिखर भी जाने दे
ख़ुतूत-ओ-रंग की ज़ंजीर मत पिन्हा मुझ को

ज़मीन पर है समुंदर फ़लक पे अब्र-ए-ग़ुबार
उतारती है कहाँ देखिए हवा मुझ को

सुकूत तर्क-ए-तअ'ल्लुक़ का इक गराँ लम्हा
बना गया है सदाओं का सिलसिला मुझ को

वो दूर दूर से अब क्यूँ मुझे जलाता है
क़रीब आ के बहुत जो बुझा गया मुझ को

रचा के एक तिलिस्म-ए-सवाबित-ओ-सय्यार
कशिश में अपनी बुलाने लगा ख़ला मुझ को

- Ameeq Hanafi
0 Likes

Falak Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ameeq Hanafi

As you were reading Shayari by Ameeq Hanafi

Similar Writers

our suggestion based on Ameeq Hanafi

Similar Moods

As you were reading Falak Shayari Shayari