nazar mein har dushwaari rakh | नज़र में हर दुश्वारी रख - Ameer Qazalbash

nazar mein har dushwaari rakh
khwaabon mein bedaari rakh

duniya se jhuk kar mat mil
rishton mein hamvaari rakh

soch samajh kar baatein kar
lafzon mein tahdaari rakh

futpaathon par chain se so
ghar mein shab-bedaari rakh

tu bhi sab jaisa ban ja
beech mein duniyadari rakh

ek khabar hai tere liye
dil par patthar bhari rakh

khaali haath nikal ghar se
zaad-e-safar ahl-e-mohabbat rakh

sher suna aur bhooka mar
is khidmat ko jaari rakh

नज़र में हर दुश्वारी रख
ख़्वाबों में बेदारी रख

दुनिया से झुक कर मत मिल
रिश्तों में हमवारी रख

सोच समझ कर बातें कर
लफ़्ज़ों में तहदारी रख

फ़ुटपाथों पर चैन से सो
घर में शब-बेदारी रख

तू भी सब जैसा बन जा
बीच में दुनिया-दारी रख

एक ख़बर है तेरे लिए
दिल पर पत्थर भारी रख

ख़ाली हाथ निकल घर से
ज़ाद-ए-सफ़र हुश्यारी रख

शेर सुना और भूका मर
इस ख़िदमत को जारी रख

- Ameer Qazalbash
1 Like

Ghar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ameer Qazalbash

As you were reading Shayari by Ameer Qazalbash

Similar Writers

our suggestion based on Ameer Qazalbash

Similar Moods

As you were reading Ghar Shayari Shayari