aise khulte hain falak par ye sitaare shab ke | ऐसे खुलते हैं फ़लक पर ये सितारे शब के - Ashu Mishra

aise khulte hain falak par ye sitaare shab ke
jis tarah phool hon saare ye bahaar-e-shab ke

teri tasveer bana kar tiri zulfon ke liye
ham ne kaaghaz pe kai rang utaare shab ke

vo musavvir jo banata hai sehar ka chehra
us se kehna ki abhi dard ubhaare shab ke

kya kisi shakhs ki hijrat mein jali hain raatein
kyun sharaaron se chamakte hain sitaare shab ke

ye tire hijr ne tohfe mein diye hain ham ko
ye jo ma'soom se rishte hain hamaare shab ke

ek muddat se hamein neend na aayi aashoo
umr ik kaat di ham ne bhi sahaare shab ke

ऐसे खुलते हैं फ़लक पर ये सितारे शब के
जिस तरह फूल हों सारे ये बहार-ए-शब के

तेरी तस्वीर बना कर तिरी ज़ुल्फ़ों के लिए
हम ने काग़ज़ पे कई रंग उतारे शब के

वो मुसव्विर जो बनाता है सहर का चेहरा
उस से कहना कि अभी दर्द उभारे शब के

क्या किसी शख़्स की हिजरत में जली हैं रातें
क्यूँ शरारों से चमकते हैं सितारे शब के

ये तिरे हिज्र ने तोहफ़े में दिए हैं हम को
ये जो मा'सूम से रिश्ते हैं हमारे शब के

एक मुद्दत से हमें नींद न आई 'आशू'
उम्र इक काट दी हम ने भी सहारे शब के

- Ashu Mishra
0 Likes

Phool Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ashu Mishra

As you were reading Shayari by Ashu Mishra

Similar Writers

our suggestion based on Ashu Mishra

Similar Moods

As you were reading Phool Shayari Shayari