kis muhoorat mein din nikalta hai | किस मुहूरत में दिन निकलता है - Balswaroop Rahi

kis muhoorat mein din nikalta hai
shaam tak sirf haath malta hai

waqt ki dillagi ke baare mein
sochta hoon to dil dahalta hai

doston ne jise duboya ho
vo zara der se sambhalta hai

hamne baunon ki jeb mein dekhi
naam jis cheez ka sapalta hai

tan badalti thi aatma pehle
aajkal tan use badalta hai

ek dhaage ki baat rakhne ko
mom ka rom-rom jalta hai

kaam chahe zehan se chalta ho
naam deewaangi se chalta hai

us shehar mein aag ki hai kami
raat-din jo dhuaan ugalta hai

uska kuch to ilaaj karvaao
uske vyavhaar mein sarlata hai

sirf do chaar sukh uthaane ko
aadmi baarhaan fisalta hai

yaad aate hain sher raahi ke
dard jab shayari mein dhalt hai

किस मुहूरत में दिन निकलता है
शाम तक सिर्फ़ हाथ मलता है

वक़्त की दिल्लगी के बारे में
सोचता हूं तो दिल दहलता है

दोस्तों ने जिसे डुबोया हो
वो ज़रा देर से संभलता है

हमने बौनों की जेब में देखी
नाम जिस चीज़ का सपलता है

तन बदलती थी आत्मा पहले
आजकल तन उसे बदलता है

एक धागे की बात रखने को
मोम का रोम-रोम जलता है

काम चाहे ज़ेहन से चलता हो
नाम दीवानगी से चलता है

उस शहर में आग की है कमी
रात-दिन जो धुआं उगलता है

उसका कुछ तो इलाज करवाओ
उसके व्यवहार में सरलता है

सिर्फ़ दो चार सुख उठाने को
आदमी बारहां फिसलता है

याद आते हैं शेर 'राही' के
दर्द जब शायरी में ढलता है

- Balswaroop Rahi
0 Likes

Aanch Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Balswaroop Rahi

As you were reading Shayari by Balswaroop Rahi

Similar Writers

our suggestion based on Balswaroop Rahi

Similar Moods

As you were reading Aanch Shayari Shayari