thak jaata hoon roz ke aane jaane mein | थक जाता हूँ रोज़ के आने जाने में - Charagh Sharma

thak jaata hoon roz ke aane jaane mein
mera bistar lagwa do maykhaane mein

uske haath mein phool hai mat kahiye kahiye
uska haath hai phool ko phool banaane mein

main kabse mauqe ki taak mein hoon usko
jaane man kah doon jaane anjaane mein

aankhon mein mat rok mujhe jaana hai udhar
ye rasta khulta hai jis tahkhane mein

थक जाता हूँ रोज़ के आने जाने में
मेरा बिस्तर लगवा दो मयख़ाने में

"उसके हाथ में फूल है" मत कहिए, कहिए
उसका हाथ है फूल को फूल बनाने में

मैं कबसे मौक़े की ताक में हूँ ,उसको
जाने मन कह दूं जाने अनजाने में

आंखों में मत रोक, मुझे जाना है उधर
ये रस्ता खुलता है जिस तहख़ाने में

- Charagh Sharma
18 Likes

Phool Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Charagh Sharma

As you were reading Shayari by Charagh Sharma

Similar Writers

our suggestion based on Charagh Sharma

Similar Moods

As you were reading Phool Shayari Shayari