hamaare dil ki baja di hai us ne eent se eent | हमारे दिल की बजा दी है उस ने ईंट से ईंट - Fawad Ahmad

hamaare dil ki baja di hai us ne eent se eent
hamaare aage kabhi us ka naam mat lena

usi nigaah se peene mein lutf hai saara
alaava us ke koi aur jaam mat lena

isee sabab se hai duniya mein aasmaan badnaam
tum apne haath mein ye intizaam mat lena

dil o nazar ki baqa hai faqat mohabbat mein
dil o nazar se koi aur kaam mat lena

yahan pe achha hai jitna bhi mukhtasar ho qayaam
zaleel hoge hayaat-e-davaam mat lena

ye saare log tumhaara mazaak udaate hain
jahaan mein aur mohabbat ka naam mat lena

rahoge chaand ki sargoshiyon se bhi mahroom
kisi se dhoop ka jalta kalaam mat lena

agarche tum pe hua hai yahan pe zulm bahut
kisi se us ka magar intiqaam mat lena

हमारे दिल की बजा दी है उस ने ईंट से ईंट
हमारे आगे कभी उस का नाम मत लेना

उसी निगाह से पीने में लुत्फ़ है सारा
अलावा उस के कोई और जाम मत लेना

इसी सबब से है दुनिया में आसमाँ बदनाम
तुम अपने हाथ में ये इंतिज़ाम मत लेना

दिल ओ नज़र की बक़ा है फ़क़त मोहब्बत में
दिल ओ नज़र से कोई और काम मत लेना

यहाँ पे अच्छा है जितना भी मुख़्तसर हो क़याम
ज़लील होगे हयात-ए-दवाम मत लेना

ये सारे लोग तुम्हारा मज़ाक़ उड़ाते हैं
जहाँ में और मोहब्बत का नाम मत लेना

रहोगे चाँद की सरगोशियों से भी महरूम
किसी से धूप का जलता कलाम मत लेना

अगरचे तुम पे हुआ है यहाँ पे ज़ुल्म बहुत
किसी से उस का मगर इंतिक़ाम मत लेना

- Fawad Ahmad
0 Likes

Aankhein Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Fawad Ahmad

As you were reading Shayari by Fawad Ahmad

Similar Writers

our suggestion based on Fawad Ahmad

Similar Moods

As you were reading Aankhein Shayari Shayari