zara socho to mere saath aisa kyun hua hai | ज़रा सोचो तो मेरे साथ ऐसा क्यूँ हुआ है - Hamdam Kashmiri

zara socho to mere saath aisa kyun hua hai
badan toota hua tha paara paara kyun hua hai

khud apni mauj se begaana dariya kyun hua hai
jo hona hi nahin tha aaj aisa kyun hua hai

suron par aasmaan dooba hua hai baadlon mein
dukhon ki jheel ka paani bhi gahra kyun hua hai

khudaaya aajizi se main ne maanga kya mila kya
asar meri duaon ka ye ulta kyun hua hai

ye kaisi raushni hai aur kin raahon se aayi hai
yakaayak meri aankhon mein andhera kyun hua hai

wahan ki aab-joo mein tel bahta hai barabar
yahan waadi mein apni khushk dariya kyun hua hai

kahaan jaayenge tujh ko chhod kar ai maa bata de
tiri aaghosh mein dushwaar jeena kyun hua hai

ye kis ne kar diya do lakht mujh ko aaj hamdam
kahaan hoon main mera saaya akela kyun hua hai

ज़रा सोचो तो मेरे साथ ऐसा क्यूँ हुआ है
बदन टूटा हुआ था पारा पारा क्यूँ हुआ है

ख़ुद अपनी मौज से बेगाना दरिया क्यूँ हुआ है
जो होना ही नहीं था आज ऐसा क्यूँ हुआ है

सुरों पर आसमाँ डूबा हुआ है बादलों में
दुखों की झील का पानी भी गहरा क्यूँ हुआ है

ख़ुदाया आजिज़ी से मैं ने माँगा क्या मिला क्या
असर मेरी दुआओं का ये उल्टा क्यूँ हुआ है

ये कैसी रौशनी है और किन राहों से आई है
यकायक मेरी आँखों में अंधेरा क्यूँ हुआ है

वहाँ की आब-जू में तेल बहता है बराबर
यहाँ वादी में अपनी ख़ुश्क दरिया क्यूँ हुआ है

कहाँ जाएँगे तुझ को छोड़ कर ऐ माँ बता दे
तिरी आग़ोश में दुश्वार जीना क्यूँ हुआ है

ये किस ने कर दिया दो लख़्त मुझ को आज 'हमदम'
कहाँ हूँ मैं मिरा साया अकेला क्यूँ हुआ है

- Hamdam Kashmiri
0 Likes

Dua Shayari

Our suggestion based on your choice

Similar Writers

our suggestion based on Hamdam Kashmiri

Similar Moods

As you were reading Dua Shayari Shayari