jo vo nazar basar-e-lutf aam ho jaaye | जो वो नज़र बसर-ए-लुत्फ़ आम हो जाए - Hasrat Mohani

jo vo nazar basar-e-lutf aam ho jaaye
ajab nahin ki hamaara bhi kaam ho jaaye

sharaab-e-shauq ki qeemat hai naqd-e-jaan-e-azeem
agar ye bais-e-kaif-e-davaam ho jaaye

raheen-e-yaas rahein ahl-e-aarzoo kab tak
kabhi to aap ka darbaar aam ho jaaye

jo aur kuchh ho tiri deed ke siva manzoor
to mujh pe khwahish-e-jannat haraam ho jaaye

vo door hi se hamein dekh len yahi hai bahut
magar qubool hamaara salaam ho jaaye

agar vo husn-e-dil-aara kabhi ho jalwa farosh
farogh-e-noor mein gum zarf-e-baam ho jaaye

suna hai barsar-e-bakhshish hai aaj peer mugaan
hamein bhi kaash ata koi jaam ho jaaye

tire karam pe hai mauqoof kaamraani-e-shauq
ye na-tamaam ilaahi tamaam ho jaaye

sitam ke baad karam hai jafaa ke baad ata
hamein hai bas jo yahi iltizaam ho jaaye

ata ho soz vo ya rab junoon-e-'hasrat ko
ki jis se pukhta ye sauda-e-khaam ho jaaye

जो वो नज़र बसर-ए-लुत्फ़ आम हो जाए
अजब नहीं कि हमारा भी काम हो जाए

शराब-ए-शौक़ की क़ीमत है नक़्द-ए-जान-ए-अज़ीज़
अगर ये बाइस-ए-कैफ़-ए-दवाम हो जाए

रहीन-ए-यास रहें अहल-ए-आरज़ू कब तक
कभी तो आप का दरबार आम हो जाए

जो और कुछ हो तिरी दीद के सिवा मंज़ूर
तो मुझ पे ख़्वाहिश-ए-जन्नत हराम हो जाए

वो दूर ही से हमें देख लें यही है बहुत
मगर क़ुबूल हमारा सलाम हो जाए

अगर वो हुस्न-ए-दिल-आरा कभी हो जल्वा फ़रोश
फ़रोग़-ए-नूर में गुम ज़र्फ़-ए-बाम हो जाए

सुना है बरसर-ए-बख़ि़्शश है आज पीर मुग़ाँ
हमें भी काश अता कोई जाम हो जाए

तिरे करम पे है मौक़ूफ़ कामरानी-ए-शौक़
ये ना-तमाम इलाही तमाम हो जाए

सितम के बाद करम है जफ़ा के बाद अता
हमें है बस जो यही इल्तिज़ाम हो जाए

अता हो सोज़ वो या रब जुनून-ए-'हसरत' को
कि जिस से पुख़्ता ये सौदा-ए-ख़ाम हो जाए

- Hasrat Mohani
1 Like

Jalwa Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Hasrat Mohani

As you were reading Shayari by Hasrat Mohani

Similar Writers

our suggestion based on Hasrat Mohani

Similar Moods

As you were reading Jalwa Shayari Shayari