dar-khur-e-qahr-o-ghazab jab koi ham sa na hua | दर-ख़ुर-ए-क़हर-ओ-ग़ज़ब जब कोई हम सा न हुआ - Mirza Ghalib

dar-khur-e-qahr-o-ghazab jab koi ham sa na hua
phir galat kya hai ki ham sa koi paida na hua

bandagi mein bhi vo aazaada o khud-been hain ki ham
ulte phir aaye dar-e-ka'ba agar vaa na hua

sab ko maqbool hai da'wa tiri yaktaai ka
roo-b-roo koi but-e-aaina-seema na hua

kam nahin naazish-e-hamnaami-e-chashm-e-khoobaan
tera beemaar bura kya hai gar achha na hua

seene ka daagh hai vo naala ki lab tak na gaya
khaak ka rizq hai vo qatra ki dariya na hua

naam ka mere hai jo dukh ki kisi ko na mila
kaam mein mere hai jo fitna ki barpa na hua

har-bun-e-moo se dam-e-zikr na tapke khun naab
hamza ka qissa hua ishq ka charcha na hua

qatra mein dajla dikhaai na de aur juzw mein kul
khel ladkon ka hua deeda-e-beena na hua

thi khabar garm ki ghalib ke udenge purze
dekhne ham bhi gaye the p tamasha na hua

दर-ख़ुर-ए-क़हर-ओ-ग़ज़ब जब कोई हम सा न हुआ
फिर ग़लत क्या है कि हम सा कोई पैदा न हुआ

बंदगी में भी वो आज़ादा ओ ख़ुद-बीं हैं कि हम
उल्टे फिर आए दर-ए-का'बा अगर वा न हुआ

सब को मक़्बूल है दा'वा तिरी यकताई का
रू-ब-रू कोई बुत-ए-आइना-सीमा न हुआ

कम नहीं नाज़िश-ए-हमनामी-ए-चश्म-ए-ख़ूबाँ
तेरा बीमार बुरा क्या है गर अच्छा न हुआ

सीने का दाग़ है वो नाला कि लब तक न गया
ख़ाक का रिज़्क़ है वो क़तरा कि दरिया न हुआ

नाम का मेरे है जो दुख कि किसी को न मिला
काम में मेरे है जो फ़ित्ना कि बरपा न हुआ

हर-बुन-ए-मू से दम-ए-ज़िक्र न टपके ख़ूँ नाब
हमज़ा का क़िस्सा हुआ इश्क़ का चर्चा न हुआ

क़तरा में दजला दिखाई न दे और जुज़्व में कुल
खेल लड़कों का हुआ दीदा-ए-बीना न हुआ

थी ख़बर गर्म कि 'ग़ालिब' के उड़ेंगे पुर्ज़े
देखने हम भी गए थे प तमाशा न हुआ

- Mirza Ghalib
0 Likes

Ishq Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Ishq Shayari Shayari