tere tausan ko saba baandhte hain | तेरे तौसन को सबा बाँधते हैं - Mirza Ghalib

tere tausan ko saba baandhte hain
ham bhi mazmoon ki hawa baandhte hain

aah ka kis ne asar dekha hai
ham bhi ek apni hawa baandhte hain

teri furqat ke muqaabil ai umr
barq ko pa-b-hina baandhte hain

qaid-e-hasti se rihaai ma'aloom
ashk ko be-sar-o-pa baandhte hain

nashsha-e-rang se hai waashud-e-gul
mast kab band-e-qaba baandhte hain

ghalati-ha-e-mazaameen mat pooch
log naale ko rasaa baandhte hain

ahl-e-tadbir ki wamaandagiyaan
aabloon par bhi hina baandhte hain

saada purkaar hain khooban ghalib
ham se paimaan-e-wafa baandhte hain

paanv mein jab vo hina baandhte hain
mere haathon ko juda baandhte hain

husn-e-afsurdah-dil-ha-rangeen
shauq ko pa-b-hina baandhte hain

qaid mein bhi hai aseeri azaad
chashm-e-zanjeer ko vaa baandhte hain

shaikh-ji ka'be ka jaana ma'aloom
aap masjid mein gadha baandhte hain

kis ka dil zulf se bhaaga ki asad
dast-e-shaana b-qaza baandhte hain

tere beemaar pe hain fariyaadi
vo jo kaaghaz mein dava baandhte hain

तेरे तौसन को सबा बाँधते हैं
हम भी मज़मूँ की हवा बाँधते हैं

आह का किस ने असर देखा है
हम भी एक अपनी हवा बाँधते हैं

तेरी फ़ुर्सत के मुक़ाबिल ऐ उम्र
बर्क़ को पा-ब-हिना बाँधते हैं

क़ैद-ए-हस्ती से रिहाई मा'लूम
अश्क को बे-सर-ओ-पा बाँधते हैं

नश्शा-ए-रंग से है वाशुद-ए-गुल
मस्त कब बंद-ए-क़बा बाँधते हैं

ग़लती-हा-ए-मज़ामीं मत पूछ
लोग नाले को रसा बाँधते हैं

अहल-ए-तदबीर की वामांदगियाँ
आबलों पर भी हिना बाँधते हैं

सादा पुरकार हैं ख़ूबाँ 'ग़ालिब'
हम से पैमान-ए-वफ़ा बाँधते हैं

पाँव में जब वो हिना बाँधते हैं
मेरे हाथों को जुदा बाँधते हैं

हुस्न-ए-अफ़्सुर्दा-दिल-हा-रंगीं
शौक़ को पा-ब-हिना बाँधते हैं

क़ैद में भी है असीरी आज़ाद
चश्म-ए-ज़ंजीर को वा बाँधते हैं

शैख़-जी का'बे का जाना मा'लूम
आप मस्जिद में गधा बाँधते हैं

किस का दिल ज़ुल्फ़ से भागा कि 'असद'
दस्त-ए-शाना ब-क़ज़ा बाँधते हैं

तेरे बीमार पे हैं फ़रियादी
वो जो काग़ज़ में दवा बाँधते हैं

- Mirza Ghalib
2 Likes

Mazhab Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Mazhab Shayari Shayari