dost gham-khwari mein meri sai farmaavenge kya | दोस्त ग़म-ख़्वारी में मेरी सई फ़रमावेंगे क्या - Mirza Ghalib

dost gham-khwari mein meri sai farmaavenge kya
zakham ke bharte talak nakhun na badh jaavenge kya

be-niyaazi had se guzri banda-parvar kab talak
ham kaheinge haal-e-dil aur aap farmaavenge kya

hazrat-e-naaseh gar aaveñ deeda o dil farsh-e-raah
koi mujh ko ye to samjha do ki samjhaavenge kya

aaj waan teg o kafan baandhe hue jaata hoon main
uzr mere qatl karne mein vo ab laavenge kya

gar kiya naaseh ne ham ko qaid achha yun sahi
ye junoon-e-ishq ke andaaz chhut jaavenge kya

khaana-zaad-e-zulf hain zanjeer se bhagenge kyun
hain girftaar-e-wafa zindaan se ghabraavenge kya

hai ab is maamure mein qahat-e-gham-e-ulfat asad
ham ne ye maana ki dilli mein rahein khaavenge kya

दोस्त ग़म-ख़्वारी में मेरी सई फ़रमावेंगे क्या
ज़ख़्म के भरते तलक नाख़ुन न बढ़ जावेंगे क्या

बे-नियाज़ी हद से गुज़री बंदा-परवर कब तलक
हम कहेंगे हाल-ए-दिल और आप फ़रमावेंगे क्या

हज़रत-ए-नासेह गर आवें दीदा ओ दिल फ़र्श-ए-राह
कोई मुझ को ये तो समझा दो कि समझावेंगे क्या

आज वाँ तेग़ ओ कफ़न बाँधे हुए जाता हूँ मैं
उज़्र मेरे क़त्ल करने में वो अब लावेंगे क्या

गर किया नासेह ने हम को क़ैद अच्छा यूँ सही
ये जुनून-ए-इश्क़ के अंदाज़ छुट जावेंगे क्या

ख़ाना-ज़ाद-ए-ज़ुल्फ़ हैं ज़ंजीर से भागेंगे क्यूँ
हैं गिरफ़्तार-ए-वफ़ा ज़िंदाँ से घबरावेंगे क्या

है अब इस मामूरे में क़हत-ए-ग़म-ए-उल्फ़त 'असद'
हम ने ये माना कि दिल्ली में रहें खावेंगे क्या

- Mirza Ghalib
0 Likes

Freedom Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Freedom Shayari Shayari