be-e'tidaaliyon se subuk sab mein ham hue | बे-ए'तिदालियों से सुबुक सब में हम हुए - Mirza Ghalib

be-e'tidaaliyon se subuk sab mein ham hue
jitne ziyaada ho gaye utne hi kam hue

pinhaan tha daam sakht qareeb aashiyaan ke
udne na paaye the ki girftaar ham hue

hasti hamaari apni fana par daleel hai
yaa tak mite ki aap ham apni qasam hue

sakhti kashaan-e-ishq ki pooche hai kya khabar
vo log rafta rafta saraapa alam hue

teri wafa se kya ho talaafi ki dehr mein
tere siva bhi ham pe bahut se sitam hue

likhte rahe junoon ki hikaayaat-e-khoon-chakaan
har-chand is mein haath hamaare qalam hue

allah re teri tundi-e-khoo jis ke beem se
ajzaa-e-naala dil mein mere rizq-e-ham hue

ahl-e-hawas ki fath hai tark-e-nabard-e-ishq
jo paanv uth gaye wahi un ke alam hue

naale adam mein chand hamaare supurd the
jo waan na khinch sake so vo yaa aa ke dam hue

chhodi asad na ham ne gadaai mein dil-lagi
sail hue to aashiq-e-ahl-e-karam hue

बे-ए'तिदालियों से सुबुक सब में हम हुए
जितने ज़ियादा हो गए उतने ही कम हुए

पिन्हाँ था दाम सख़्त क़रीब आशियान के
उड़ने न पाए थे कि गिरफ़्तार हम हुए

हस्ती हमारी अपनी फ़ना पर दलील है
याँ तक मिटे कि आप हम अपनी क़सम हुए

सख़्ती कशान-ए-इश्क़ की पूछे है क्या ख़बर
वो लोग रफ़्ता रफ़्ता सरापा अलम हुए

तेरी वफ़ा से क्या हो तलाफ़ी कि दहर में
तेरे सिवा भी हम पे बहुत से सितम हुए

लिखते रहे जुनूँ की हिकायात-ए-ख़ूँ-चकाँ
हर-चंद इस में हाथ हमारे क़लम हुए

अल्लाह रे तेरी तुंदी-ए-ख़ू जिस के बीम से
अजज़ा-ए-नाला दिल में मिरे रिज़्क़-ए-हम हुए

अहल-ए-हवस की फ़त्ह है तर्क-ए-नबर्द-ए-इश्क़
जो पाँव उठ गए वही उन के अलम हुए

नाले अदम में चंद हमारे सुपुर्द थे
जो वाँ न खिंच सके सो वो याँ आ के दम हुए

छोड़ी 'असद' न हम ने गदाई में दिल-लगी
साइल हुए तो आशिक़-ए-अहल-ए-करम हुए

- Mirza Ghalib
0 Likes

Zakhm Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Zakhm Shayari Shayari