meri hasti fazaa-e-hairat aabaad-e-tamanna hai | मिरी हस्ती फ़ज़ा-ए-हैरत आबाद-ए-तमन्ना है - Mirza Ghalib

meri hasti fazaa-e-hairat aabaad-e-tamanna hai
jise kahte hain naala vo usi aalam ka anqa hai

khizaan kya fasl-e-gul kahte hain kis ko koi mausam ho
wahi ham hain qafas hai aur maatam baal-o-par ka hai

wafa-e-dilbaraan hai ittifaqi warna ai hamdam
asar fariyaad-e-dil-ha-e-hazeen ka kis ne dekha hai

na laai shokhi-e-andesha taab-e-ranj-e-naumidi
kaf-e-afsos milna ahad-e-tajdeed-e-tamanna hai

na sove aabloon mein gar sarishk-e-deeda-e-naam se
b-jaulan-gaah-e-naumidi nigaah-e-aazizaan pa hai

b-sakhti-ha-e-qaid-e-zindagi maaloom aazaadi
sharar bhi said-e-daam-e-rishta-e-rag-ha-e-khaara hai

taghaful-mashrabi se naa-tamaami bas-ki paida hai
nigaah-e-naaz chashm-e-yaar mein zunnaar-e-meena hai

tasarruf vahshiyon mein hai tasavvur-ha-e-majnoon ka
sawaad-e-chashm-e-aahoo aks-e-khaal-e-roo-e-laila hai

mohabbat tarz-e-paivand-e-nihaal-e-dosti jaane
daveedan resha saan muft-e-rag-e-khwaab-e-zulekha hai

kiya yak-sar gudaaz-e-dil niyaaz-e-joshish-e-hasrat
suwaida nuskha-e-tah-bandee-e-daag-e-tamanna hai

hujoom-e-rezish-e-khoon ke sabab rang ud nahin saka
hinaa-e-panja-e-saiyyaad murgh-e-rishta bar-paa hai

asar soz-e-mohabbat ka qayamat be-muhaaba hai
ki rag se sang mein tukhm-e-sharar ka resha paida hai

nihaan hai gauhar-e-maqsud jeb-e-khud-shanasi mein
ki yaa ghavvaas hai timsaal aur aaina dariya hai

azeezo zikr-e-wasl-e-ghair se mujh ko na bahlaao
ki yaa afsun-e-khwaab afsaana-e-khwaab-e-zulekha hai

tasavvur behr-e-taskin-e-tapeedan-ha-e-tifl-e-dil
b-baag-e-rang-ha-e-rafta gul-cheen-e-tamasha hai

b-sai-e-ghair hai qat-e-libaas-e-khaana-veeraani
ki naaz-e-jaada-e-rah rishta-e-daaman-e-sehra hai

मिरी हस्ती फ़ज़ा-ए-हैरत आबाद-ए-तमन्ना है
जिसे कहते हैं नाला वो उसी आलम का अन्क़ा है

ख़िज़ाँ क्या फ़स्ल-ए-गुल कहते हैं किस को कोई मौसम हो
वही हम हैं क़फ़स है और मातम बाल-ओ-पर का है

वफ़ा-ए-दिलबराँ है इत्तिफ़ाक़ी वर्ना ऐ हमदम
असर फ़रियाद-ए-दिल-हा-ए-हज़ीं का किस ने देखा है

न लाई शोख़ी-ए-अंदेशा ताब-ए-रंज-ए-नौमीदी
कफ़-ए-अफ़्सोस मिलना अहद-ए-तज्दीद-ए-तमन्ना है

न सोवे आबलों में गर सरिश्क-ए-दीदा-ए-नाम से
ब-जौलाँ-गाह-ए-नौमीदी निगाह-ए-आजिज़ाँ पा है

ब-सख़्ती-हा-ए-क़ैद-ए-ज़िंदगी मालूम आज़ादी
शरर भी सैद-ए-दाम-ए-रिश्ता-ए-रग-हा-ए-ख़ारा है

तग़फ़ुल-मशरबी से ना-तमामी बस-कि पैदा है
निगाह-ए-नाज़ चश्म-ए-यार में ज़ुन्नार-ए-मीना है

तसर्रुफ़ वहशियों में है तसव्वुर-हा-ए-मजनूँ का
सवाद-ए-चश्म-ए-आहू अक्स-ए-ख़ाल-ए-रू-ए-लैला है

मोहब्बत तर्ज़-ए-पैवंद-ए-निहाल-ए-दोस्ती जाने
दवीदन रेशा साँ मुफ़्त-ए-रग-ए-ख़्वाब-ए-ज़ुलेख़ा है

किया यक-सर गुदाज़-ए-दिल नियाज़-ए-जोशिश-ए-हसरत
सुवैदा नुस्ख़ा-ए-तह-बंदी-ए-दाग़-ए-तमन्ना है

हुजूम-ए-रेज़िश-ए-ख़ूँ के सबब रंग उड़ नहीं सकता
हिना-ए-पंजा-ए-सैय्याद मुर्ग़-ए-रिश्ता बर-पा है

असर सोज़-ए-मोहब्बत का क़यामत बे-मुहाबा है
कि रग से संग में तुख़्म-ए-शरर का रेशा पैदा है

निहाँ है गौहर-ए-मक़्सूद जेब-ए-ख़ुद-शनासी में
कि याँ ग़व्वास है तिमसाल और आईना दरिया है

अज़ीज़ो ज़िक्र-ए-वस्ल-ए-ग़ैर से मुझ को न बहलाओ
कि याँ अफ़्सून-ए-ख़्वाब अफ़्साना-ए-ख़्वाब-ए-ज़ुलेख़ा है

तसव्वुर बहर-ए-तस्कीन-ए-तपीदन-हा-ए-तिफ़्ल-ए-दिल
ब-बाग़-ए-रंग-हा-ए-रफ़्ता गुल-चीन-ए-तमाशा है

ब-सइ-ए-ग़ैर है क़त-ए-लिबास-ए-ख़ाना-वीरानी
कि नाज़-ए-जादा-ए-रह रिश्ता-ए-दामान-ए-सहरा है

- Mirza Ghalib
0 Likes

Aazaadi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Aazaadi Shayari Shayari