ek ja harf-e-wafaa likkha tha so bhi mit gaya | एक जा हर्फ़-ए-वफ़ा लिक्खा था सो भी मिट गया - Mirza Ghalib

ek ja harf-e-wafaa likkha tha so bhi mit gaya
zaahiran kaaghaz tire khat ka galat-bar-daar hai

jee jale zauq-e-fanaa ki naa-tamaami par na kyun
ham nahin jalte nafs har chand aatish-baar hai

aag se paani mein bujhte waqt uthati hai sada
har koi darmaandagi mein naale se naachaar hai

hai wahi bad-masti-e-har-zarra ka khud uzr-khwaah
jis ke jalwe se zameen ta aasmaan sarshaar hai

mujh se mat kah tu hamein kehta tha apni zindagi
zindagi se bhi mera jee in dinon be-zaar hai

aankh ki tasveer sar-naame pe kheenchi hai ki ta
tujh pe khul jaave ki is ko hasrat-e-deedaar hai

एक जा हर्फ़-ए-वफ़ा लिक्खा था सो भी मिट गया
ज़ाहिरन काग़ज़ तिरे ख़त का गलत-बर-दार है

जी जले ज़ौक़-ए-फ़ना की ना-तमामी पर न क्यूँ
हम नहीं जलते नफ़स हर चंद आतिश-बार है

आग से पानी में बुझते वक़्त उठती है सदा
हर कोई दरमांदगी में नाले से नाचार है

है वही बद-मस्ती-ए-हर-ज़र्रा का ख़ुद उज़्र-ख़्वाह
जिस के जल्वे से ज़मीं ता आसमाँ सरशार है

मुझ से मत कह तू हमें कहता था अपनी ज़िंदगी
ज़िंदगी से भी मिरा जी इन दिनों बे-ज़ार है

आँख की तस्वीर सर-नामे पे खींची है कि ता
तुझ पे खुल जावे कि इस को हसरत-ए-दीदार है

- Mirza Ghalib
1 Like

Nigaah Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Nigaah Shayari Shayari