koi ummeed bar nahin aati | कोई उम्मीद बर नहीं आती - Mirza Ghalib

koi ummeed bar nahin aati
koi soorat nazar nahin aati

maut ka ek din muayyan hai
neend kyun raat bhar nahin aati

aage aati thi haal-e-dil pe hasi
ab kisi baat par nahin aati

jaanta hoon savaab-e-ta'at-o-zohd
par tabeeyat idhar nahin aati

hai kuch aisi hi baat jo chup hoon
warna kya baat kar nahin aati

kyun na cheekhoon ki yaad karte hain
meri awaaz gar nahin aati

daag-e-dil gar nazar nahin aata
boo bhi ai chaaragar nahin aati

hum wahan hain jahaan se hum ko bhi
kuch hamaari khabar nahin aati

marte hain aarzoo mein marne ki
maut aati hai par nahin aati

kaaba kis munh se jaaoge ghalib
sharm tum ko magar nahin aati

कोई उम्मीद बर नहीं आती
कोई सूरत नज़र नहीं आती

मौत का एक दिन मुअय्यन है
नींद क्यूँ रात भर नहीं आती

आगे आती थी हाल-ए-दिल पे हँसी
अब किसी बात पर नहीं आती

जानता हूँ सवाब-ए-ताअत-ओ-ज़ोहद
पर तबीअत इधर नहीं आती

है कुछ ऐसी ही बात जो चुप हूँ
वर्ना क्या बात कर नहीं आती

क्यूँ न चीख़ूँ कि याद करते हैं
मेरी आवाज़ गर नहीं आती

दाग़-ए-दिल गर नज़र नहीं आता
बू भी ऐ चारागर नहीं आती

हम वहाँ हैं जहाँ से हम को भी
कुछ हमारी ख़बर नहीं आती

मरते हैं आरज़ू में मरने की
मौत आती है पर नहीं आती

काबा किस मुँह से जाओगे 'ग़ालिब'
शर्म तुम को मगर नहीं आती

- Mirza Ghalib
15 Likes

Qabr Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Qabr Shayari Shayari