zikr mera b-badi bhi use manzoor nahin | ज़िक्र मेरा ब-बदी भी उसे मंज़ूर नहीं - Mirza Ghalib

zikr mera b-badi bhi use manzoor nahin
gair ki baat bigad jaaye to kuchh door nahin

vaada-e-sair-e-gulistaan hai khusa taale-e-shauq
muzda-e-qatl muqaddar hai jo mazkoor nahin

shaahid-e-hasti-e-mutlaq ki kamar hai aalam
log kahte hain ki hai par hamein manzoor nahin

qatra apna bhi haqeeqat mein hai dariya lekin
ham ko taqleed-e-tunuk-zarfi-e-mansoor nahin

hasrat ai zauq-e-kharaabi ki vo taqat na rahi
ishq-e-pur-arbada ki goon tan-e-ranjur nahin

main jo kehta hoon ki ham lenge qayamat mein tumhein
kis raunat se vo kahte hain ki ham hoor nahin

zulm kar zulm agar lutf daregh aata ho
tu taghaaful mein kisi rang se ma'zoor nahin

saaf durdi-kash-e-paimaana-e-jam hain ham log
waaye vo baada ki afshurda-e-angoor nahin

hoon zuhoori ke muqaabil mein khifaai ghalib
mere daave pe ye hujjat hai ki mashhoor nahin

ज़िक्र मेरा ब-बदी भी उसे मंज़ूर नहीं
ग़ैर की बात बिगड़ जाए तो कुछ दूर नहीं

वादा-ए-सैर-ए-गुलिस्ताँ है ख़ुशा ताले-ए-शौक़
मुज़्दा-ए-क़त्ल मुक़द्दर है जो मज़कूर नहीं

शाहिद-ए-हस्ती-ए-मुतलक़ की कमर है आलम
लोग कहते हैं कि है पर हमें मंज़ूर नहीं

क़तरा अपना भी हक़ीक़त में है दरिया लेकिन
हम को तक़लीद-ए-तुनुक-ज़र्फ़ी-ए-मंसूर नहीं

हसरत ऐ ज़ौक़-ए-ख़राबी कि वो ताक़त न रही
इश्क़-ए-पुर-अरबदा की गूँ तन-ए-रंजूर नहीं

मैं जो कहता हूँ कि हम लेंगे क़यामत में तुम्हें
किस रऊनत से वो कहते हैं कि हम हूर नहीं

ज़ुल्म कर ज़ुल्म अगर लुत्फ़ दरेग़ आता हो
तू तग़ाफ़ुल में किसी रंग से मअज़ूर नहीं

साफ़ दुर्दी-कश-ए-पैमाना-ए-जम हैं हम लोग
वाए वो बादा कि अफ़्शुर्दा-ए-अंगूर नहीं

हूँ ज़ुहूरी के मुक़ाबिल में ख़िफ़ाई 'ग़ालिब'
मेरे दावे पे ये हुज्जत है कि मशहूर नहीं

- Mirza Ghalib
2 Likes

Nadii Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Nadii Shayari Shayari