ye ishq vo hai jisne bahr-o-bar kharab kar diya | ये इश्क़ वो है जिसने बहर-ओ-बर ख़राब कर दिया - Tehzeeb Hafi

ye ishq vo hai jisne bahr-o-bar kharab kar diya
hamein to usne jaise khaas kar kharab kar diya

main dil pe haath rakh ke tujhko shehar bhej doon magar
tujhe bhi un hawaon ne agar kharab kar diya

kisi ne naam likh ke aur kisi ne peeng daal ke
mohabbaton ki aad mein shajar kharab kar diya

tumhein hi dekhne mein mahav hai vo kaam chhodkar
tumhaari car ne to kaarigar kharab kar diya

main qafile ke saath hoon magar mujhe ye khauf hai
agar kisi ne mera hamsafar kharab kar diya

teri nazar ke maqde tamaam shab khule rahe
teri sharaab ne mera jigar kharab kar diya

ये इश्क़ वो है जिसने बहर-ओ-बर ख़राब कर दिया
हमें तो उसने जैसे ख़ास कर ख़राब कर दिया

मैं दिल पे हाथ रख के तुझको शहर भेज दूँ मगर
तुझे भी उन हवाओं ने अगर ख़राब कर दिया

किसी ने नाम लिख के और किसी ने पींग डाल के
मोहब्बतों की आड़ में शजर ख़राब कर दिया

तुम्हें ही देखने में महव है वो काम छोड़कर
तुम्हारी कार ने तो कारीगर ख़राब कर दिया

मैं क़ाफ़िले के साथ हूँ मगर मुझे ये खौफ़ है
अगर किसी ने मेरा हमसफ़र ख़राब कर दिया

तेरी नज़र के मैक़दे तमाम शब खुले रहे
तेरी शराब ने मेरा जिगर ख़राब कर दिया

- Tehzeeb Hafi
43 Likes

Aankhein Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tehzeeb Hafi

As you were reading Shayari by Tehzeeb Hafi

Similar Writers

our suggestion based on Tehzeeb Hafi

Similar Moods

As you were reading Aankhein Shayari Shayari