jitne log shehar mein hain | जितने लोग शहर में हैं - Vigyan Vrat

jitne log shehar mein hain
ek musalsal dar mein hain

manzil peeche chhoot gai
phir bhi log safar mein hain

sirf mere qadmon ke nishaan
meri raahguzar mein hain

un se uttar kya poocha
prashn kai uttar mein hain

khair to hai vigyaan miyaan
kaafi din se ghar mein hain

जितने लोग शहर में हैं
एक मुसलसल डर में हैं

मंज़िल पीछे छूट गई
फिर भी लोग सफ़र में हैं

सिर्फ़ मिरे क़दमों के निशाँ
मेरी राहगुज़र में हैं

उन से उत्तर क्या पूछा
प्रश्न कई उत्तर में हैं

ख़ैर तो है 'विज्ञान' मियाँ
काफ़ी दिन से घर में हैं

- Vigyan Vrat
0 Likes

Dar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Vigyan Vrat

As you were reading Shayari by Vigyan Vrat

Similar Writers

our suggestion based on Vigyan Vrat

Similar Moods

As you were reading Dar Shayari Shayari