dil is hujoom-e-shahr mein tanhaa kahein jise | दिल इस हुजूम-ए-शहर में तन्हा कहें जिसे - Ahmad Azeem

dil is hujoom-e-shahr mein tanhaa kahein jise
aisa nahin koi ki shanaasa kahein jise

aankhon mein chubh rahi hai koi mauj mauj reg
vehshat badan mein phailta sehra kahein jise

bheje hain us ne phool bahut se gulaab ke
tajdeed-e-dosti ka taqaza kahein jise

fenka hai us ne ek tabassum b-tarz-e-gul
saari sitamgari ka izaala kahein jise

dekha hai us ne aaj dam-e-wasl aaina
aankhon mein mehr-taab jhalakta kahein jise

poocha hai us ne aaj saf-e-kushtagaan ka haal
har harf harf-e-zeest ka muzda kahein jise

दिल इस हुजूम-ए-शहर में तन्हा कहें जिसे
ऐसा नहीं कोई कि शनासा कहें जिसे

आँखों में चुभ रही है कोई मौज मौज रेग
वहशत बदन में फैलता सहरा कहें जिसे

भेजे हैं उस ने फूल बहुत से गुलाब के
तज्दीद-ए-दोस्ती का तक़ाज़ा कहें जिसे

फेंका है उस ने एक तबस्सुम ब-तर्ज़-ए-गुल
सारी सितमगरी का इज़ाला कहें जिसे

देखा है उस ने आज दम-ए-वस्ल आइना
आँखों में मेहर-ताब झलकता कहें जिसे

पूछा है उस ने आज सफ़-ए-कुश्तगाँ का हाल
हर हर्फ़ हर्फ़-ए-ज़ीस्त का मुज़्दा कहें जिसे

- Ahmad Azeem
0 Likes

Khushboo Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Azeem

As you were reading Shayari by Ahmad Azeem

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Azeem

Similar Moods

As you were reading Khushboo Shayari Shayari