ab bhi aaye hai vo gali meri | अब भी आए है वो गली मेरी - Ahmad Soz

ab bhi aaye hai vo gali meri
us ko hona hai aaj bhi meri

jaanti hai vo meri ik ik baat
us ne padh li hai diary meri

tez-raftaar ho gaya hoon main
aage chalne lagi ghadi meri

sone chaandi ke ek pinjare mein
qaid hai aaj-kal pari meri

khwahishon ka ghulaam hoon main bhi
kaam aayi na aagahi meri

aap to baat meri sun lijye
zindagi ne nahin sooni meri

log badnaam kar rahe hain use
dekhi jaati nahin khushi meri

अब भी आए है वो गली मेरी
उस को होना है आज भी मेरी

जानती है वो मेरी इक इक बात
उस ने पढ़ ली है डायरी मेरी

तेज़-रफ़्तार हो गया हूँ मैं
आगे चलने लगी घड़ी मेरी

सोने चाँदी के एक पिंजरे में
क़ैद है आज-कल परी मेरी

ख़्वाहिशों का ग़ुलाम हूँ मैं भी
काम आई न आगही मेरी

आप तो बात मेरी सुन लीजे
ज़िंदगी ने नहीं सुनी मेरी

लोग बदनाम कर रहे हैं उसे
देखी जाती नहीं ख़ुशी मेरी

- Ahmad Soz
0 Likes

Jashn Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Soz

As you were reading Shayari by Ahmad Soz

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Soz

Similar Moods

As you were reading Jashn Shayari Shayari