nazar aa rahe hain jo tanhaa se ham | नज़र आ रहे हैं जो तन्हा से हम - Ajmal Siraj

nazar aa rahe hain jo tanhaa se ham
so yun hai ki bhar paaye duniya se ham

na parwa hamein haal-e-behaal ki
na sharminda umr-e-guzishta se ham

bhala koi karta hai murdon se baat
kahein kya dil-e-be-tamanna se ham

nazar mein hai jab se saraapa tira
jabhi se hain kuchh be-sar-o-pa se ham

koi jal-paree kya pari bhi na aayi
magar khush hue raat dariya se ham

tamaashaai shash-jihat hain so hain
khud apne liye bhi tamasha se ham

samajhna tha duniya ko yun bhi muhaal
samjhte the duniya ko duniya se ham

नज़र आ रहे हैं जो तन्हा से हम
सो यूँ है कि भर पाए दुनिया से हम

न पर्वा हमें हाल-ए-बेहाल की
न शर्मिंदा उम्र-ए-गुज़िश्ता से हम

भला कोई करता है मुर्दों से बात
कहें क्या दिल-ए-बे-तमन्ना से हम

नज़र में है जब से सरापा तिरा
जभी से हैं कुछ बे-सर-ओ-पा से हम

कोई जल-परी क्या परी भी न आई
मगर ख़ुश हुए रात दरिया से हम

तमाशाई शश-जिहत हैं सो हैं
ख़ुद अपने लिए भी तमाशा से हम

समझना था दुनिया को यूँ भी मुहाल
समझते थे दुनिया को दुनिया से हम

- Ajmal Siraj
0 Likes

Aankhein Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ajmal Siraj

As you were reading Shayari by Ajmal Siraj

Similar Writers

our suggestion based on Ajmal Siraj

Similar Moods

As you were reading Aankhein Shayari Shayari