gulshan hai isee ka naam agar hairaan hoon biyaabaan kya hoga | गुलशन है इसी का नाम अगर हैराँ हूँ बयाबाँ क्या होगा - Anand Narayan Mulla

gulshan hai isee ka naam agar hairaan hoon biyaabaan kya hoga
hangaam-e-bahaaraan jab ye hai anjaam-e-bahaaraan kya hoga

saaqi ke dayaar-e-rehmat mein hindu-o-muslamaan kya hoga
is bazm-e-paak-nahaadaan mein aalooda-e-eimaan kya hoga

ye jang to ladna hi hogi har berg se chahe khun tapke
kaanton se jo gul dar jaayega daara-e-gulistaan kya hoga

ulfat ko mitaane ke dar pe duniya aur main is soch mein hoon
ulfat na rahegi jab baaki khwaab-e-dil-e-insaan kya hoga

main door bhi tum se jee loonga tum mere liye kuchh gham na karo
maana ki pareshaan dil hoga aisa bhi pareshaan kya hoga

jis haath mein hai shamsher-o-teer kya us se umeed-e-barg-o-samar
jo shaakh-e-nasheman torega memaar-e-gulistaan kya hoga

kis shay pe abhi ham jashn karein har-soo kaante kooda-karkat
kuchh rang-e-chaman aaye to sahi ghoore pe charaaghaan kya hoga

jo tishna-labon ke haq ke liye saaqi se lade vo rind kahaan
jo dast-o-dahaan ka khugar hai vo dast-o-garebaan kya hoga

saaqi ki ghulaami kar lega aur vo bhi kuchh qatron ke liye
naadaan sahi mulla lekin itna bhi vo naadaan kya hoga

aawaaz-e-zameer apni sun kar mulla ne bana li raah-e-amal
ye fikr kabhi us ko na hui andaaz-e-harifaan kya hoga

गुलशन है इसी का नाम अगर हैराँ हूँ बयाबाँ क्या होगा
हंगाम-ए-बहाराँ जब ये है अंजाम-ए-बहाराँ क्या होगा

साक़ी के दयार-ए-रहमत में हिंदू-ओ-मुसलमाँ क्या होगा
इस बज़्म-ए-पाक-नहादाँ में आलूदा-ए-ईमाँ क्या होगा

ये जंग तो लड़ना ही होगी हर बर्ग से चाहे ख़ूँ टपके
काँटों से जो गुल डर जाएगा दारा-ए-गुलिस्ताँ क्या होगा

उल्फ़त को मिटाने के दर पे दुनिया और मैं इस सोच में हूँ
उल्फ़त न रहेगी जब बाक़ी ख़्वाब-ए-दिल-ए-इंसाँ क्या होगा

मैं दूर भी तुम से जी लूँगा तुम मेरे लिए कुछ ग़म न करो
माना कि परेशाँ दिल होगा ऐसा भी परेशाँ क्या होगा

जिस हाथ में है शमशीर-ओ-तीर क्या उस से उमीद-ए-बर्ग-ओ-समर
जो शाख़-ए-नशेमन तोड़ेगा मेमार-ए-गुलिस्ताँ क्या होगा

किस शय पे अभी हम जश्न करें हर-सू काँटे कूड़ा-करकट
कुछ रंग-ए-चमन आए तो सही घूरे पे चराग़ाँ क्या होगा

जो तिश्ना-लबों के हक़ के लिए साक़ी से लड़े वो रिंद कहाँ
जो दस्त-ओ-दहाँ का ख़ूगर है वो दस्त-ओ-गरेबाँ क्या होगा

साक़ी की ग़ुलामी कर लेगा और वो भी कुछ क़तरों के लिए
नादान सही मुल्ला लेकिन इतना भी वो नादाँ क्या होगा

आवाज़-ए-ज़मीर अपनी सुन कर 'मुल्ला' ने बना ली राह-ए-अमल
ये फ़िक्र कभी उस को न हुई अंदाज़-ए-हरीफ़ाँ क्या होगा

- Anand Narayan Mulla
0 Likes

Jashn Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Anand Narayan Mulla

As you were reading Shayari by Anand Narayan Mulla

Similar Writers

our suggestion based on Anand Narayan Mulla

Similar Moods

As you were reading Jashn Shayari Shayari