gaaliyaan tankhwaah thehri hai agar bat jaayegi | गालियाँ तनख़्वाह ठहरी है अगर बट जाएगी - Bahadur Shah Zafar

gaaliyaan tankhwaah thehri hai agar bat jaayegi
aashiqon ke ghar mithaai lab shakar bat jaayegi

roo-b-roo gar hoga yusuf aur tu aa jaayega
us ki jaanib se zulekha ki nazar bat jaayegi

rahzano mein naaz-o-ghamza ki ye jins-e-deen-o-dil
jun mata-e-burda aakhir hum-digar bat jaayegi

hoga kya gar bol utthe gair baaton mein meri
phir tabeeyat meri ai bedaad gar bat jaayegi

daulat-e-duniya nahin jaane ki hargiz tere saath
baad tere sab yahin ai be-khabar bat jaayegi

kar le ai dil jaan ko bhi ranj-o-gham mein tu shareek
ye jo mehnat tujh pe hai kuchh kuchh magar bat jaayegi

moong chaati pe jo dalte hain kisi ki dekhna
jootiyon mein daal un ki ai zafar bat jaayegi

गालियाँ तनख़्वाह ठहरी है अगर बट जाएगी
आशिक़ों के घर मिठाई लब शकर बट जाएगी

रू-ब-रू गर होगा यूसुफ़ और तू आ जाएगा
उस की जानिब से ज़ुलेख़ा की नज़र बट जाएगी

रहज़नों में नाज़-ओ-ग़म्ज़ा की ये जिंस-ए-दीन-ओ-दिल
जूँ मता-ए-बुर्दा आख़िर हम-दिगर बट जाएगी

होगा क्या गर बोल उट्ठे ग़ैर बातों में मिरी
फिर तबीअत मेरी ऐ बेदाद गर बट जाएगी

दौलत-ए-दुनिया नहीं जाने की हरगिज़ तेरे साथ
बाद तेरे सब यहीं ऐ बे-ख़बर बट जाएगी

कर ले ऐ दिल जान को भी रंज-ओ-ग़म में तू शरीक
ये जो मेहनत तुझ पे है कुछ कुछ मगर बट जाएगी

मूँग छाती पे जो दलते हैं किसी की देखना
जूतियों में दाल उन की ऐ 'ज़फ़र' बट जाएगी

- Bahadur Shah Zafar
0 Likes

Nigaah Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Bahadur Shah Zafar

As you were reading Shayari by Bahadur Shah Zafar

Similar Writers

our suggestion based on Bahadur Shah Zafar

Similar Moods

As you were reading Nigaah Shayari Shayari