kitni hi be-zarar sahi teri kharaabiyaan | कितनी ही बे-ज़रर सही तेरी ख़राबियाँ - Basir Sultan Kazmi

kitni hi be-zarar sahi teri kharaabiyaan
baasir kharaabiyaan to hain phir bhi kharaabiyaan

haalat jagah badlne se badli nahin meri
hoti hain har jagah ki kuchh apni kharaabiyaan

tu chahta hai apni nayi khoobiyo ki daad
mujh ko aziz teri puraani kharaabiyaan

joohee ta'alluqaat kisi se hue kharab
saare jahaan ki us mein milengi kharaabiyaan

sarkaar ka hai apna hi meaar-e-intikhaab
yaaro kahaan ki khoobiyaan kaisi kharaabiyaan

aadam khata ka putla hai gar maan len ye baat
niklengi is kharaabi se kitni kharaabiyaan

un hastiyon ki raah pe dekhenge chal ke ham
jin mein na theen kisi bhi tarah ki kharaabiyaan

boenge apne baagh mein sab khoobiyo ke beej
jad se ukhaad fenkengi saari kharaabiyaan

baasir ki shakhsiyat bhi ajab hai ki is mein hain
kuchh khoobiyaan kharab kuchh achhi kharaabiyaan

कितनी ही बे-ज़रर सही तेरी ख़राबियाँ
'बासिर' ख़राबियाँ तो हैं फिर भी ख़राबियाँ

हालत जगह बदलने से बदली नहीं मिरी
होती हैं हर जगह की कुछ अपनी ख़राबियाँ

तू चाहता है अपनी नई ख़ूबियों की दाद
मुझ को अज़ीज़ तेरी पुरानी ख़राबियाँ

जूँही तअ'ल्लुक़ात किसी से हुए ख़राब
सारे जहाँ की उस में मिलेंगी ख़राबियाँ

सरकार का है अपना ही मेआ'र-ए-इंतिख़ाब
यारो कहाँ की ख़ूबियाँ कैसी ख़राबियाँ

आदम ख़ता का पुतला है गर मान लें ये बात
निकलेंगी इस ख़राबी से कितनी ख़राबियाँ

उन हस्तियों की राह पे देखेंगे चल के हम
जिन में न थीं किसी भी तरह की ख़राबियाँ

बोएँगे अपने बाग़ में सब ख़ूबियों के बीज
जड़ से उखाड़ फेंकेंगे सारी ख़राबियाँ

'बासिर' की शख़्सियत भी अजब है कि इस में हैं
कुछ ख़ूबियाँ ख़राब कुछ अच्छी ख़राबियाँ

- Basir Sultan Kazmi
0 Likes

Political Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Basir Sultan Kazmi

As you were reading Shayari by Basir Sultan Kazmi

Similar Writers

our suggestion based on Basir Sultan Kazmi

Similar Moods

As you were reading Political Shayari Shayari