jaanta hoon ki kai log hain behtar mujh se | जानता हूँ कि कई लोग हैं बेहतर मुझ से - Faizi

jaanta hoon ki kai log hain behtar mujh se
phir bhi khwaahish hai ki dekho kabhi mil kar mujh se

sochta kya hoon tire baare mein chalte chalte
tu zara poochna ye baat thehar kar mujh se

main yahi soch ke har haal mein khush rehta hoon
rooth jaaye na kahi mera muqaddar mujh se

mujh pe mat chhod ki phir b'ad mein pachhtaayega
faisley theek hi ho jaate hain akshar mujh se

raat vo khoon rulaati hai udaasi dil ki
rone lagta hai lipt kar mera bistar mujh se

ahad-e-aaghaz-e-mohabbat tire anjaam ki khair
ab uthaaye nahin uthata hai ye patthar mujh se

जानता हूँ कि कई लोग हैं बेहतर मुझ से
फिर भी ख़्वाहिश है कि देखो कभी मिल कर मुझ से

सोचता क्या हूँ तिरे बारे में चलते चलते
तू ज़रा पूछना ये बात ठहर कर मुझ से

मैं यही सोच के हर हाल में ख़ुश रहता हूँ
रूठ जाए न कहीं मेरा मुक़द्दर मुझ से

मुझ पे मत छोड़ कि फिर ब'अद में पछताएगा
फ़ैसले ठीक ही हो जाते हैं अक्सर मुझ से

रात वो ख़ून रुलाती है उदासी दिल की
रोने लगता है लिपट कर मिरा बिस्तर मुझ से

अहद-ए-आग़ाज़-ए-मोहब्बत तिरे अंजाम की ख़ैर
अब उठाए नहीं उठता है ये पत्थर मुझ से

- Faizi
0 Likes

Khoon Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Faizi

As you were reading Shayari by Faizi

Similar Writers

our suggestion based on Faizi

Similar Moods

As you were reading Khoon Shayari Shayari