is liye dil bura kiya hi nahin | इस लिए दिल बुरा किया ही नहीं - Faizi

is liye dil bura kiya hi nahin
zindagi mera faisla hi nahin

is qadar shor tha mere sar mein
apni awaaz par ruka hi nahin

badi khwaahish thi mujh ko hone ki
ho gaya hoon to kuchh hua hi nahin

zulm karta hoon zulm sahta hoon
main kabhi chain se raha hi nahin

pad gaya hai khuda se kaam mujhe
aur khuda ka koi pata hi nahin

tod daalo ye haath paanv mere
jism ka to muqaabla hi nahin

tum kahaan ho zara sada to do
is se aage to raasta hi nahin

इस लिए दिल बुरा किया ही नहीं
ज़िंदगी मेरा फ़ैसला ही नहीं

इस क़दर शोर था मिरे सर में
अपनी आवाज़ पर रुका ही नहीं

बड़ी ख़्वाहिश थी मुझ को होने की
हो गया हूँ तो कुछ हुआ ही नहीं

ज़ुल्म करता हूँ ज़ुल्म सहता हूँ
मैं कभी चैन से रहा ही नहीं

पड़ गया है ख़ुदा से काम मुझे
और ख़ुदा का कोई पता ही नहीं

तोड़ डालो ये हाथ पाँव मिरे
जिस्म का तो मुक़ाबला ही नहीं

तुम कहाँ हो ज़रा सदा तो दो
इस से आगे तो रास्ता ही नहीं

- Faizi
0 Likes

Masti Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Faizi

As you were reading Shayari by Faizi

Similar Writers

our suggestion based on Faizi

Similar Moods

As you were reading Masti Shayari Shayari