jo dil ko pehle mayassar tha kya hua us ka | जो दिल को पहले मयस्सर था क्या हुआ उस का - Faizi

jo dil ko pehle mayassar tha kya hua us ka
jo is sukoon se behtar tha kya hua us ka

kahaan liye chali jaati hai mujh ko veeraani
yahin kahi pe mera ghar tha kya hua us ka

kuchh aise ashk piye hain ki ab khabar hi nahin
is aankh mein jo samundar tha kya hua us ka

nazar gai so gai par koi bataaye mujhe
bade kamaal ka manzar tha kya hua us ka

ye sochne nahin deta sitamgaron ka hujoom
ki vo jo pehla sitam-gar tha kya hua us ka

main subh khwaab se jaaga to ye khayal aaya
jo raat mere barabar tha kya hua us ka

main jis ke haath laga hoon use mubarak ho
magar jo mera muqaddar tha kya hua us ka

जो दिल को पहले मयस्सर था क्या हुआ उस का
जो इस सुकून से बेहतर था क्या हुआ उस का

कहाँ लिए चली जाती है मुझ को वीरानी
यहीं कहीं पे मिरा घर था क्या हुआ उस का

कुछ ऐसे अश्क पिए हैं कि अब ख़बर ही नहीं
इस आँख में जो समुंदर था क्या हुआ उस का

नज़र गई सो गई पर कोई बताए मुझे
बड़े कमाल का मंज़र था क्या हुआ उस का

ये सोचने नहीं देता सितमगरों का हुजूम
कि वो जो पहला सितम-गर था क्या हुआ उस का

मैं सुब्ह ख़्वाब से जागा तो ये ख़याल आया
जो रात मेरे बराबर था क्या हुआ उस का

मैं जिस के हाथ लगा हूँ उसे मुबारक हो
मगर जो मेरा मुक़द्दर था क्या हुआ उस का

- Faizi
0 Likes

Qismat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Faizi

As you were reading Shayari by Faizi

Similar Writers

our suggestion based on Faizi

Similar Moods

As you were reading Qismat Shayari Shayari