mohabbat ho gai jis ko use ab dekhna kya hai | मोहब्बत हो गई जिस को उसे अब देखना क्या है - Maaham Shah

mohabbat ho gai jis ko use ab dekhna kya hai
bhala kya hai bura kya hai saza kya hai jazaa kya hai

zara tum saamne aao nazar ham se to takraav
kise phir hosh ho tum ne kaha kya hai suna kya hai

mohabbat jurm aisa hai ki mujrim hai khada be-sudh
kiya kya hai gunah kya hai saza kya hai khata kya hai

na aana ishq ke bazaar mein andhi tijaarat hai
diya kya hai liya kya hai bika kya hai bacha kya hai

zamaana jhoom utha hai sada-e-daad aati hai
na jaane aaj maaham ne ghazal mein kah diya kya hai

मोहब्बत हो गई जिस को उसे अब देखना क्या है
भला क्या है बुरा क्या है सज़ा क्या है जज़ा क्या है

ज़रा तुम सामने आओ नज़र हम से तो टकराव
किसे फिर होश हो तुम ने कहा क्या है सुना क्या है

मोहब्बत जुर्म ऐसा है कि मुजरिम है खड़ा बे-सुध
किया क्या है गुनह क्या है सज़ा क्या है ख़ता क्या है

न आना इश्क़ के बाज़ार में अंधी तिजारत है
दिया क्या है लिया क्या है बिका क्या है बचा क्या है

ज़माना झूम उट्ठा है सदा-ए-दाद आती है
न जाने आज 'माहम' ने ग़ज़ल में कह दिया क्या है

- Maaham Shah
0 Likes

Justice Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Maaham Shah

As you were reading Shayari by Maaham Shah

Similar Writers

our suggestion based on Maaham Shah

Similar Moods

As you were reading Justice Shayari Shayari