gila hai shauq ko dil mein bhi tangi-e-jaa ka | गिला है शौक़ को दिल में भी तंगी-ए-जा का - Mirza Ghalib

gila hai shauq ko dil mein bhi tangi-e-jaa ka
guhar mein mahav hua iztiraab dariya ka

ye jaanta hoon ki tu aur paasukh-e-maktoob
magar sitam-zada hoon zauq-e-khaama-farsaa ka

hinaa-e-paa-e-khizaan hai bahaar agar hai yahi
davaam-e-kulft-e-khaatir hai aish duniya ka

gham-e-firaq mein takleef-e-sair-e-baagh na do
mujhe dimaagh nahin khanda-ha-e-beja ka

hanooz mahrami-e-husn ko tarasta hoon
kare hai har-bun-e-moo kaam chashm-e-beena ka

dil us ko pehle hi naaz-o-ada se de baithe
hamein dimaagh kahaan husn ke taqaza ka

na kah ki giryaa ba-miqaadar-e-hasrat-e-dil hai
meri nigaah mein hai jam-o-kharch dariya ka

falak ko dekh ke karta hoon us ko yaad asad
jafaa mein us ki hai andaaz kaar-farma ka

mera shumool har ik dil ke pech-o-taab mein hai
main muddaa hoon tapish-naama-e-tamanna ka

mili na wusa't-e-jaulan yak junoon ham ko
adam ko le gaye dil mein ghubaar sehra ka

गिला है शौक़ को दिल में भी तंगी-ए-जा का
गुहर में महव हुआ इज़्तिराब दरिया का

ये जानता हूँ कि तू और पासुख़-ए-मकतूब
मगर सितम-ज़दा हूँ ज़ौक़-ए-ख़ामा-फ़रसा का

हिना-ए-पा-ए-ख़िज़ाँ है बहार अगर है यही
दवाम-ए-कुल्फ़त-ए-ख़ातिर है ऐश दुनिया का

ग़म-ए-फ़िराक़ में तकलीफ़-ए-सैर-ए-बाग़ न दो
मुझे दिमाग़ नहीं ख़ंदा-हा-ए-बेजा का

हनूज़ महरमी-ए-हुस्न को तरसता हूँ
करे है हर-बुन-ए-मू काम चश्म-ए-बीना का

दिल उस को पहले ही नाज़-ओ-अदा से दे बैठे
हमें दिमाग़ कहाँ हुस्न के तक़ाज़ा का

न कह कि गिर्या ब-मिक़दार-ए-हसरत-ए-दिल है
मिरी निगाह में है जम-ओ-ख़र्च दरिया का

फ़लक को देख के करता हूँ उस को याद 'असद'
जफ़ा में उस की है अंदाज़ कार-फ़रमा का

मिरा शुमूल हर इक दिल के पेच-ओ-ताब में है
मैं मुद्दआ हूँ तपिश-नामा-ए-तमन्ना का

मिली न वुसअ'त-ए-जौलान यक जुनूँ हम को
अदम को ले गए दिल में ग़ुबार सहरा का

- Mirza Ghalib
0 Likes

Dil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Dil Shayari Shayari