ibn-e-mariyam hua kare koi | इब्न-ए-मरियम हुआ करे कोई - Mirza Ghalib

ibn-e-mariyam hua kare koi
mere dukh ki dava kare koi

sharai o aaeen par madaar sahi
aise qaateel ka kya kare koi

chaal jaise kaddi kamaan ka teer
dil mein aise ke ja kare koi

baat par waan zabaan kattee hai
vo kahein aur suna kare koi

bak raha hoon junoon mein kya kya kuchh
kuchh na samjhe khuda kare koi

na suno gar bura kahe koi
na kaho gar bura kare koi

rok lo gar galat chale koi
bakhsh do gar khata kare koi

kaun hai jo nahin hai haajat-mand
kis ki haajat rawa kare koi

kya kiya khizr ne sikandar se
ab kise rehnuma kare koi

jab tavakko hi uth gai ghalib
kyun kisi ka gila kare koi

इब्न-ए-मरियम हुआ करे कोई
मेरे दुख की दवा करे कोई

शरअ' ओ आईन पर मदार सही
ऐसे क़ातिल का क्या करे कोई

चाल जैसे कड़ी कमान का तीर
दिल में ऐसे के जा करे कोई

बात पर वाँ ज़बान कटती है
वो कहें और सुना करे कोई

बक रहा हूँ जुनूँ में क्या क्या कुछ
कुछ न समझे ख़ुदा करे कोई

न सुनो गर बुरा कहे कोई
न कहो गर बुरा करे कोई

रोक लो गर ग़लत चले कोई
बख़्श दो गर ख़ता करे कोई

कौन है जो नहीं है हाजत-मंद
किस की हाजत रवा करे कोई

क्या किया ख़िज़्र ने सिकंदर से
अब किसे रहनुमा करे कोई

जब तवक़्क़ो ही उठ गई 'ग़ालिब'
क्यूँ किसी का गिला करे कोई

- Mirza Ghalib
3 Likes

Udasi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Udasi Shayari Shayari