aur koi gham na tha kya jamaane mein | और कोई ग़म न था क्या जमाने में - Murli Dhakad

aur koi gham na tha kya jamaane mein
dil dahal utha hai aadhe hi paimaane mein

koi jannat ka naam na le lena
khuda ke saath khada hoon veeraane mein

aur bhi hain saaqi ke talabgaar
aur bhi log hain maykhaane mein

tum mujhse mera haasil puchte ho
umr guzri hai tumko rizhaane mein

tum seerat mein mujhse juda ho lekin
hai tumhaara dard bhi mere afsaane mein

और कोई ग़म न था क्या जमाने में
दिल दहल उठा है आधे ही पैमाने में

कोई जन्नत का नाम न ले लेना
खुदा के साथ खड़ा हूँ वीराने में

और भी हैं साक़ी के तलबगार
और भी लोग हैं मयखाने में

तुम मुझसे मेरा हासिल पुछते हो
उम्र गुजरी है तुमको रिझाने में

तुम सीरत में मुझसे जुदा हो लेकिन
है तुम्हारा दर्द भी मेरे अफ़साने में

- Murli Dhakad
0 Likes

Dil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Murli Dhakad

As you were reading Shayari by Murli Dhakad

Similar Writers

our suggestion based on Murli Dhakad

Similar Moods

As you were reading Dil Shayari Shayari