raat jaise jaise dhalti ja rahi hai | रात जैसे जैसे ढलती जा रही है - Murli Dhakad

raat jaise jaise dhalti ja rahi hai
koi kasak dil mein machalti ja rahi hai

koi gunaah kar liya hota
umr naahak dhalti ja rahi hai

taskin-e-dil ki talash mein
meri haisiyat badalti ja rahi hai

nahi junoon ka mukaabla ishq se
hairat hai taqreer badalti ja rahi hai

rind ab jinda nahin rahe shaayad
zindagi sambhalti ja rahi hai

रात जैसे जैसे ढलती जा रही है
कोई कसक दिल में मचलती जा रही है

कोई गुनाह कर लिया होता
उम्र नाहक ढलती जा रही है

तस्कीन-ए-दिल की तलाश में
मेरी हैसियत बदलती जा रही है

नही जुनून का मुकाबला इश्क़ से
हैरत है तक़रीर बदलती जा रही है

'रिंद' अब जिंदा नहीं रहे शायद
ज़िंदगी संभलती जा रही है

- Murli Dhakad
0 Likes

Zindagi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Murli Dhakad

As you were reading Shayari by Murli Dhakad

Similar Writers

our suggestion based on Murli Dhakad

Similar Moods

As you were reading Zindagi Shayari Shayari