use meri yaad sataayegi is par mujhe shak hai | उसे मेरी याद सताएगी इस पर मुझे शक है - Murli Dhakad

use meri yaad sataayegi is par mujhe shak hai
kabhi barsaat rulaayegi is par mujhe shak hai

bade khuloos se ye kehta hoon ki vo haya ki moorat hai
lekin kabhi sharmaayegi is par mujhe shak hai

bahut hi shauk se vo kar leti hai ahad-e-wafa
lekin kabhi nibhaayegi is par mujhe shak hai

vo banegi shauk aur junoon banegi tumhaara
aadat mein dhal jaayegi is par mujhe shak hai

utar to gai hain adaayein darya-e-dil mein
kabhi sambhal paayegi is par mujhe shak hai

kai baar badli hai justajoo-e-dil-e-shikasta
phir se badal jaayegi is par mujhe shak hai

उसे मेरी याद सताएगी इस पर मुझे शक है
कभी बरसात रुलाएगी इस पर मुझे शक है

बड़े खुलूस से ये कहता हूँ कि वो हया की मूरत है
लेकिन कभी शर्माएगी इस पर मुझे शक है

बहुत ही शौक से वो कर लेती है अहद-ए-वफ़ा
लेकिन कभी निभाएगी इस पर मुझे शक है

वो बनेगी शौक और जुनून बनेगी तुम्हारा
आदत में ढल जाएगी इस पर मुझे शक है

उतर तो गई हैं अदाएं दरिया-ए-दिल में
कभी संभल पाएगी इस पर मुझे शक है

कई बार बदली है जुस्तजू-ए-दिल-ए-शिकस्ता
फिर से बदल जाएगी इस पर मुझे शक है

- Murli Dhakad
1 Like

Naqab Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Murli Dhakad

As you were reading Shayari by Murli Dhakad

Similar Writers

our suggestion based on Murli Dhakad

Similar Moods

As you were reading Naqab Shayari Shayari