agar kuch hosh hum rakhte to mastaane hue hote | अगर कुछ होश हम रखते तो मस्ताने हुए होते - Siraj Aurangabadi

agar kuch hosh hum rakhte to mastaane hue hote
pahunchte ja lab-e-saaqi koon paimaane hue hote

abas in shehariyon mein waqt apna hum kiye zaae
kisi majnoon ki sohbat baith deewane hue hote

na rakhta main yahan gar ulfat-e-laila nigaahon koon
to majnoon ki tarah aalam mein afsaane hue hote

agar hum aashna hote tiri begaana-khooi seen
bara-e-maslakat zaahir mein begaane hue hote

zi-bas kaafir-adaayon ne chalaae sang-e-be-rehmi
agar sab jam'a karta main to but-khaane hue hote

na karta zabt agar main giryaa-e-be-ikhtiyaari koon
guzarta jis taraf ye poor veeraane hue hote

nazar chashm-e-kharidaari seen karta dilbar-e-naadan
agar qatre mere aansu ke duraadane hue hote

mohabbat ke nashe mein khaas insaan vaaste warna
farishte ye sharaaben pee ki mastaane hue hote

evaz apne garebaan ke kisi ki zulf haath aati
hamaare haath ke panje magar shaane hue hote

tiri shamshir-e-abroo seen hue sanmukh wa illa na
ajal ki teg seen jyuun aara dandaane hue hote

maza jo aashiqi mein hai so maashooqi mein hargiz neen
siraaj ab ho chuke afsos parwaane hue hote

अगर कुछ होश हम रखते तो मस्ताने हुए होते
पहुँचते जा लब-ए-साक़ी कूँ पैमाने हुए होते

अबस इन शहरियों में वक़्त अपना हम किए ज़ाए
किसी मजनूँ की सोहबत बैठ दीवाने हुए होते

न रखता मैं यहाँ गर उल्फ़त-ए-लैला निगाहों कूँ
तो मजनूँ की तरह आलम में अफ़्साने हुए होते

अगर हम आश्ना होते तिरी बेगाना-ख़ूई सीं
बरा-ए-मस्लहत ज़ाहिर में बेगाने हुए होते

ज़ि-बस काफ़िर-अदायों ने चलाए संग-ए-बे-रहमी
अगर सब जम्अ करता मैं तो बुत-ख़ाने हुए होते

न करता ज़ब्त अगर मैं गिर्या-ए-बे-इख़्तियारी कूँ
गुज़रता जिस तरफ़ ये पूर वीराने हुए होते

नज़र चश्म-ए-ख़रीदारी सीं करता दिलबर-ए-नादाँ
अगर क़तरे मिरे आँसू के दुरदाने हुए होते

मोहब्बत के नशे में ख़ास इंसाँ वास्ते वर्ना
फ़रिश्ते ये शराबें पी कि मस्ताने हुए होते

एवज़ अपने गरेबाँ के किसी की ज़ुल्फ़ हात आती
हमारे हात के पंजे मगर शाने हुए होते

तिरी शमशीर-ए-अबरू सीं हुए सन्मुख व इल्ला न
अजल की तेग़ सीं ज्यूँ आरा दंदाने हुए होते

मज़ा जो आशिक़ी में है सो माशूक़ी में हरगिज़ नीं
'सिराज' अब हो चुके अफ़सोस परवाने हुए होते

- Siraj Aurangabadi
0 Likes

Mohabbat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Siraj Aurangabadi

As you were reading Shayari by Siraj Aurangabadi

Similar Writers

our suggestion based on Siraj Aurangabadi

Similar Moods

As you were reading Mohabbat Shayari Shayari