ye sun kar har koi hairaan hai ab | ये सुन कर हर कोई हैरान है अब - Varun Anand

ye sun kar har koi hairaan hai ab
tu meri jaan kisi ki jaan hai ab

mila kar khaak mein armaan hamaare
vo pooche hai koi armaan hai ab

tire kaandhe ki pehle shaal thi jo
hamaare ghar ka dastarkhwan hai ab

sabhi se sarsari rishta hi rakho
muhabbat mein bada nuqsaan hai ab

nahin pahchaanta ab koi mujh ko
yahi meri nayi pehchaan hai ab

vo jhoota tha mera mehboob pehle
jo ik aala siyaasat-daan hai ab

use kun kehne ki lat pad gai hai
use lagta hai vo bhagwaan hai ab

chalo jaao hamaara haath chhodo
tumhaara raasta aasaan hai ab

ये सुन कर हर कोई हैरान है अब
तू मेरी जाँ, किसी की जान है अब

मिला कर ख़ाक में अरमाँ हमारे
वो पूछे है कोई अरमान है अब

तिरे कांधे की पहले शाल थी जो
हमारे घर का दस्तरख़्वान है अब

सभी से सरसरी रिश्ता ही रक्खो
मुहब्बत में बड़ा नुक़सान है अब

नहीं पहचानता अब कोई मुझ को
यही मेरी नई पहचान है अब

वो झूटा था मिरा महबूब पहले
जो इक आला सियासत-दान है अब

उसे कुन कहने की लत पड़ गई है
उसे लगता है वो भगवान है अब

चलो जाओ हमारा हाथ छोड़ो
तुम्हारा रास्ता आसान है अब

- Varun Anand
10 Likes

Mehboob Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Varun Anand

As you were reading Shayari by Varun Anand

Similar Writers

our suggestion based on Varun Anand

Similar Moods

As you were reading Mehboob Shayari Shayari