zara lau charaagh ki kam karo mera dukh hai phir se utaar par | ज़रा लौ चराग़ की कम करो मिरा दुख है फिर से उतार पर - Vikas Sharma Raaz

zara lau charaagh ki kam karo mera dukh hai phir se utaar par
jise sun ke ashk chhalk pade wahi dhun bajao sitaar par

zara hairaton se nikal to luun zara hosh aaye to kuchh kahoon
abhi kuchh na pooch ki kya hua mera dhyaan abhi hai ghubaar par

kahi harf harf gulaab hai kahi khushbuon se khitaab hai
main khizaan-naseeb sahi magar mera tabsira hai bahaar par

mere dost tujh ko hai kya pata tujhe de rahe hain jo mashwara
yahi log jashn manaaenge meri jeet par tiri haar par

jahaan har singaar fuzool hon jahaan ugte sirf babool hon
jahaan zard rang ho ghaas ka wahan kyun na shak ho bahaar par

ज़रा लौ चराग़ की कम करो मिरा दुख है फिर से उतार पर
जिसे सुन के अश्क छलक पड़ें वही धुन बजाओ सितार पर

ज़रा हैरतों से निकल तो लूँ ज़रा होश आए तो कुछ कहूँ
अभी कुछ न पूछ कि क्या हुआ मिरा ध्यान अभी है ग़ुबार पर

कहीं हर्फ़ हर्फ़ गुलाब है कहीं ख़ुशबुओं से ख़िताब है
मैं ख़िज़ाँ-नसीब सही मगर मिरा तब्सिरा है बहार पर

मिरे दोस्त तुझ को है क्या पता तुझे दे रहे हैं जो मशवरा
यही लोग जश्न मनाएँगे मिरी जीत पर तिरी हार पर

जहाँ हर सिंगार फ़ुज़ूल हों जहाँ उगते सिर्फ़ बबूल हों
जहाँ ज़र्द रंग हो घास का वहाँ क्यूँ न शक हो बहार पर

- Vikas Sharma Raaz
1 Like

Gulshan Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Vikas Sharma Raaz

As you were reading Shayari by Vikas Sharma Raaz

Similar Writers

our suggestion based on Vikas Sharma Raaz

Similar Moods

As you were reading Gulshan Shayari Shayari