fasl-e-gul mein hai iraada soo-e-sehraa apna | फ़स्ल-ए-गुल में है इरादा सू-ए-सहरा अपना - Agha Hajju Sharaf

fasl-e-gul mein hai iraada soo-e-sehraa apna
rang kya dekhiye dikhaata hai sauda apna

ishq mein ham jo mitaate hain kisi ko kya kaam
jaan apni hai dil apna hai kaleja apna

aah ham karte hain ai yaar ke mehfil waalo
dono haathon se jigar thaam lo apna apna

poochte kya ho judaai mein jo guzri guzri
tum ko maaloom hai sab haal kahein kya apna

koi mushtaaq raha jalwa kisi ne dekha
is ko kya kijie maqsoom hai apna apna

zindagi shart hai kya dard-e-jigar se hoga
apne haq mein to dam apna hai maseeha apna

kaam aaya amal-e-nek mera turbat mein
lillahil-hamd ki ik dost to nikla apna

poochte hain jo koi naam mera leta hai
jaante hain vo mujhe aashiq-e-shaida apna

najd mein dard-e-jigar qais bayaan karta hai
khoob hi royegi dil thaam ke leila apna

shehar se bhaagte hain dasht mein ghabraate hain
dil bahalta hi nahin ab to kisi ja apna

ediyaan mujh se ragadvaaegi majnoon ki tarah
naam rakha hai shab-e-wasl ne leila apna

ai sharf khair to hai haal hai kyun sakte ka
aaina le ke zara dekho to chehra apna

फ़स्ल-ए-गुल में है इरादा सू-ए-सहरा अपना
रंग क्या देखिए दिखलाता है सौदा अपना

इश्क़ में हम जो मिटाते हैं किसी को क्या काम
जान अपनी है दिल अपना है कलेजा अपना

आह हम करते हैं ऐ यार के महफ़िल वालो
दोनों हाथों से जिगर थाम लो अपना अपना

पूछते क्या हो जुदाई में जो गुज़री गुज़री
तुम को मालूम है सब हाल कहें क्या अपना

कोई मुश्ताक़ रहा जल्वा किसी ने देखा
इस को क्या कीजिए मक़्सूम है अपना अपना

ज़िंदगी शर्त है क्या दर्द-ए-जिगर से होगा
अपने हक़ में तो दम अपना है मसीहा अपना

काम आया अमल-ए-नेक मिरा तुर्बत में
लिल्लाहिल-हम्द कि इक दोस्त तो निकला अपना

पूछते हैं जो कोई नाम मिरा लेता है
जानते हैं वो मुझे आशिक़-ए-शैदा अपना

नज्द में दर्द-ए-जिगर क़ैस बयाँ करता है
ख़ूब ही रोएगी दिल थाम के लैला अपना

शहर से भागते हैं दश्त में घबराते हैं
दिल बहलता ही नहीं अब तो किसी जा अपना

एड़ियाँ मुझ से रगड़वाएगी मजनूँ की तरह
नाम रक्खा है शब-ए-वस्ल ने लैला अपना

ऐ 'शरफ़' ख़ैर तो है हाल है क्यूँ सकते का
आइना ले के ज़रा देखो तो चेहरा अपना

- Agha Hajju Sharaf
0 Likes

Valentine Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Agha Hajju Sharaf

As you were reading Shayari by Agha Hajju Sharaf

Similar Writers

our suggestion based on Agha Hajju Sharaf

Similar Moods

As you were reading Valentine Shayari Shayari