sooni hai chaap bahut waqt ke guzarne ki | सुनी है चाप बहुत वक़्त के गुज़रने की - Ajmal Siraj

sooni hai chaap bahut waqt ke guzarne ki
magar ye zakham ki hasrat hai jis ke bharne ki

hamaare sar pe to ye aasmaan toot pada
ghadi jab aayi sitaaron se maang bharne ki

girah mein daam to rakhte hain zahar khaane ko
ye aur baat ki furqat nahin hai marne ki

bahut malaal hai tujh ko na dekh paane ka
bahut khushi hai tiri raah se guzarne ki

batao tum se kahaan raabta kiya jaaye
kabhi jo tum se zaroorat ho baat karne ki

सुनी है चाप बहुत वक़्त के गुज़रने की
मगर ये ज़ख़्म कि हसरत है जिस के भरने की

हमारे सर पे तो ये आसमान टूट पड़ा
घड़ी जब आई सितारों से माँग भरने की

गिरह में दाम तो रखते हैं ज़हर खाने को
ये और बात कि फ़ुर्सत नहीं है मरने की

बहुत मलाल है तुझ को न देख पाने का
बहुत ख़ुशी है तिरी राह से गुज़रने की

बताओ तुम से कहाँ राब्ता किया जाए
कभी जो तुम से ज़रूरत हो बात करने की

- Ajmal Siraj
1 Like

Justaju Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ajmal Siraj

As you were reading Shayari by Ajmal Siraj

Similar Writers

our suggestion based on Ajmal Siraj

Similar Moods

As you were reading Justaju Shayari Shayari