tamannaayein jawaan theen ishq farmaane se pehle | तमन्नाएँ जवाँ थीं इश्क़ फ़रमाने से पहले - Aqeel Nomani

tamannaayein jawaan theen ishq farmaane se pehle
shagufta the ye saare phool kumhalane se pehle

hifazat ki koi soorat nikal aati hai akshar
main tum ko dhundh hi leta hoon kho jaane se pehle

bhala vo log kya jaanen safar ki lazzaton ko
jinhen manzil mili ho thokren khaane se pehle

meri vehshat mere sehra mein un ko dhoondhti hai
jo the do-chaar chehre jaane pahchaane se pehle

junoon ki manzilen aasaan nahin ye soch lena
kai gulshan padenge tum ko veeraane se pehle

तमन्नाएँ जवाँ थीं इश्क़ फ़रमाने से पहले
शगुफ़्ता थे ये सारे फूल कुम्हलाने से पहले

हिफ़ाज़त की कोई सूरत निकल आती है अक्सर
मैं तुम को ढूँड ही लेता हूँ खो जाने से पहले

भला वो लोग क्या जानें सफ़र की लज़्ज़तों को
जिन्हें मंज़िल मिली हो ठोकरें खाने से पहले

मिरी वहशत मिरे सहरा में उन को ढूँढती है
जो थे दो-चार चेहरे जाने पहचाने से पहले

जुनूँ की मंज़िलें आसाँ नहीं ये सोच लेना
कई गुलशन पड़ेंगे तुम को वीराने से पहले

- Aqeel Nomani
2 Likes

Safar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Aqeel Nomani

As you were reading Shayari by Aqeel Nomani

Similar Writers

our suggestion based on Aqeel Nomani

Similar Moods

As you were reading Safar Shayari Shayari