dil tujh ko diya jaan bhi tujhe jaane ghazal doon | दिल तुझ को दिया जाँ भी तुझे जाने ग़ज़ल दूँ - Arif Dehlvi

dil tujh ko diya jaan bhi tujhe jaane ghazal doon
banwa ke tujhe taaj se bhi pyaara mahal doon

ai jaane wafa itna bata de zara mujhko
main jaan tere ishq mein kab aaj ya kal doon

tu pyaar se chalne ko jo ik baar kahe to
main chaand ke bhi paar tere saath mein chal doon

tu pyaar ki may mujhko nigaahon se pilaaye
main jaame muhabbat mein tujhe ishq ka jal doon

hain zulf-e-girah-geer teri pyaari niraali
main zulf ko suljhaaun ya kuchh aur bhi bal doon

hai meri tamannaa main gale tujhko laga ke
masti se bhare vasl ke rangeen haseen pal doon

दिल तुझ को दिया जाँ भी तुझे जाने ग़ज़ल दूँ
बनवा के तुझे ताज से भी प्यारा महल दूँ

ऐ जाने वफ़ा इतना बता दे ज़रा मुझको
मैं जान तेरे इश्क़ में कब, आज या कल दूँ

तू प्यार से चलने को जो इक बार कहे तो
मैं चाँद के भी पार तेरे साथ में चल दूँ

तू प्यार की मय मुझको निगाहों से पिलाए
मैं जामे मुहब्बत में तुझे इश्क़ का जल दूँ

हैं ज़ुल्फ़-ए-गिरह-गीर तेरी प्यारी निराली
मैं ज़ुल्फ़ को सुलझाऊं या कुछ और भी बल दूँ

है मेरी तमन्ना मैं गले तुझको लगा के
मस्ती से भरे वस्ल के रंगीं हँसीं पल दूँ

- Arif Dehlvi
1 Like

Chaand Shayari

Our suggestion based on your choice

Similar Writers

our suggestion based on Arif Dehlvi

Similar Moods

As you were reading Chaand Shayari Shayari