Christmas Day Shayari
Best

Christmas Day Shayari

december ka mahina aur dilli ki sardi
sitaaron ki jhilmilaati jhurmut se pare
aasmaan ke ek sunsaan goshe mein
poonam ka thithurta hua koi chaand jaise
baadlon mein khaata hai mutawaatir hachkole
hawle hawle
tanhaa musaafir
aur door tak kohre ki chadar mein lipti
bal khaati sadken
dhund ki ghubaar mein khoya hua india gate
thand mein thokren khaata musaafir
khush naseeb hai
baadlon mein ghus jaata hai chaand
meri christmas ki raunqen phaili hain tamaam
sitaaron se raushan saje dhaje bazaar
lazeez khaanon ki khushbuen jahaan phaili hain har-soo
bazaar ki garm fazaaon mein
may ki sarmasti mein dooba hua hai poore shehar ka shabaab
tanhaa musaafir ki
chand roza masafat bhi kya shay hai yaaro
hum-vatanon se door
apnon se door
jamuna tat par jaise bin maanjhi ke naav
boat club ke sard paani mein jaise
tairta rukta hua koi tanhaa hubaab
tanhaa musaafir sochta hai
koi hai jis ka vo haath thaam le hawle hawle
koi hai jo us ke saath kuchh daur chale hawle hawle
dhund mein khoi hui manzilen
taveel sadken
aur tanhaa musaafir
jaise poonam ka thithurta hua koi chaand
baadlon mein khaata hai mutawaatir hachkole
hawle hawle
दिसम्बर का महीना और दिल्ली की सर्दी
सितारों की झिलमिलाती झुरमुट से परे
आसमान के एक सुनसान गोशे में
पूनम का ठिठुरता हुआ कोई चांद जैसे
बादलों में खाता है मुतवातिर हचकोले
हौले हौले
तन्हा मुसाफ़िर
और दूर तक कोहरे की चादर में लिपटी
बल खाती सड़कें
धुंद की ग़ुबार में खोया हुआ इंडिया गेट
ठण्ड में ठोकरें खाता मुसाफ़िर
ख़ुश नसीब है
बादलों में घुस जाता है चाँद
मेरी क्रिसमस की रौनक़ें फैली हैं तमाम
सितारों से रौशन सजे धजे बाज़ार
लज़ीज़ खानों की ख़ुशबुएँ जहाँ फैली हैं हर-सू
बाज़ार की गर्म फ़ज़ाओं में
मय की सरमस्ती में डूबा हुआ है पूरे शहर का शबाब
तन्हा मुसाफ़िर की
चंद रोज़ा मसाफ़त भी क्या शय है यारो!
हम-वतनों से दूर
अपनों से दूर
जमुना तट पर जैसे बिन माँझी के नाव
बोट क्लब के सर्द पानी में जैसे
तैरता रुकता हुआ कोई तन्हा हुबाब
तन्हा मुसाफ़िर सोचता है
कोई है जिस का वो हाथ थाम ले हौले हौले
कोई है जो उस के साथ कुछ दौर चले हौले हौले
धुँद में खोई हुई मंज़िलें
तवील सड़कें
और तन्हा मुसाफ़िर
जैसे पूनम का ठिठुरता हुआ कोई चाँद
बादलों में खाता है मुतवातिर हचकोले
हौले हौले
Read Full
Perwaiz Shaharyar
9 Likes
christmas ka darakht

main bhi hoon goya christmas ka darakht
mera rishta bhi zameen se aasmaan se aur hawa se kat chuka
baagh chhoota khetiyan chhootiin
main ghar ke markazi kamre mein aa kar dat chuka
mere bacchon ne sajaaya hai mujhe
raushni ke nanhe nanhe bulb taanke hain meri baanhon ke saath
meri shaakhon mein hain tohfe
mukhtalif rangon ke kaaghaz aur sunhare tape mein lipate hue
hai raqam har ek tohfe par koi maanoos naam
raat hogi aur dinner ke ba'ad mere paas sab aa jaayenge
meri biwi mere bacche mere dost
meri shaakhon se utaare jaayenge tohfe tamaam
jaagti soi hui gudiya
damkati dhaariyon waala fraak
mere bete ke liye bandooq
jis se vo karega udti chidiyon ka shikaar
meri biwi ke liye necklace chamakta pur-waqaar
aur bhi tohfe bahut se be-shumaar
aur bacchon ke liye aur apne pyaaron ke liye
jab guzar jaayegi shab
bat chukenge saare tohfe bujh chukenge bulb sab
main drawing-room ki be-kaar shay ho jaaunga
mere sukhe zard-patton ki mahak
jaagti-jeeti fazaa mein kab talak
phir meri biwi kahegi
aao baccho ghar ki zebaish naye sire se karein
fenk den ab ghar se baahar ye christmas ka darakht
patta patta us ki har ik shaakh ka murjha gaya
ab naya saal aa gaya
"क्रिसमस का दरख़्त"

मैं भी हूँ गोया क्रिसमस का दरख़्त
मेरा रिश्ता भी ज़मीं से आसमाँ से और हवा से कट चुका
बाग़ छूटा खेतियाँ छूटीं
मैं घर के मरकज़ी कमरे में आ कर डट चुका
मेरे बच्चों ने सजाया है मुझे
रौशनी के नन्हे नन्हे बल्ब टाँके हैं मिरी बाँहों के साथ
मेरी शाख़ों में हैं तोहफ़े
मुख़्तलिफ़ रंगों के काग़ज़ और सुनहरे टेप में लिपटे हुए
है रक़म हर एक तोहफ़े पर कोई मानूस नाम
रात होगी और डिनर के बा'द मेरे पास सब आ जाएँगे
मेरी बीवी मेरे बच्चे मेरे दोस्त
मेरी शाख़ों से उतारे जाएँगे तोहफ़े तमाम
जागती सोई हुई गुड़िया
दमकती धारियों वाला फ़्राक
मेरे बेटे के लिए बंदूक़
जिस से वो करेगा उड़ती चिड़ियों का शिकार
मेरी बीवी के लिए नेकलेस चमकता पुर-वक़ार
और भी तोहफ़े बहुत से बे-शुमार
और बच्चों के लिए और अपने प्यारों के लिए
जब गुज़र जाएगी शब
बट चुकेंगे सारे तोहफ़े बुझ चुकेंगे बल्ब सब
मैं ड्राइंग-रूम की बे-कार शय हो जाऊँगा
मेरे सूखे ज़र्द-पत्तों की महक
जागती-जीती फ़ज़ा में कब तलक
फिर मिरी बीवी कहेगी
आओ बच्चो घर की ज़ेबाइश नए सिरे से करें
फेंक दें अब घर से बाहर ये क्रिसमस का दरख़्त
पत्ता पत्ता उस की हर इक शाख़ का मुरझा गया
अब नया साल आ गया
Read Full
Shahzad Ahmad
1 Like
kaun samjhega is paheli ko

munich mein aaj christmas hai
saare manaazir ne safed chadar odh rakhi hai
kamre ki khidki se aati udaasi chaahar-soo phailti ja rahi hai
andhera udaasiyon ke nohe padh raha hai
mumtiyon se fisalta nahin koi kankar
lamhe saakit ho gaye hain
almaari ke khaanon mein kuchh yaadein bikhri padi hain
saamne padi kursi jhool rahi hai
saara maahol sogwaar hai
ajeeb sa dar hai
jo aansu ban kar utar raha hai
aasmaan saath rang roshaniyaan
qahqahe saaz nagmgi
ye hujoom saal-ha-saal ki masafat hai
kenchuli badlne ka ehsaas
aankhon ki khaamoshi se athaah gehraai mein utar raha hai
main abhi laut kar nahin aayi
dil ne barson se roo-e-aalam ki khaak chaani hai
teri ankhoen mein kahi vo zamaane simat ke aa gaye hain
jab quetta airport se nam-naaki ne tumhein ravana kiya
raqs nagmgi
chudiyon ki khanak ke neeche hain
bhari hai in sab saazon se
haath khaali hain dil veeraan hai
dayra dayra ye khaamoshi
dayra dayra ye tanhaai
jis mein qadeem aasaar
mohan-jodado harappa babil tesla ke
jo mere andar lamha lamha utarte jaate hain
majeed amjad
main faaslon ki kamand ki aseer
main teri shaalaat
rood-baar ke pul par badi der se khadi hoon
"कौन समझेगा इस पहेली को"

म्यूनिख़ में आज क्रिसमस है
सारे मनाज़िर ने सफ़ेद चादर ओढ़ रखी है
कमरे की खिड़की से आती उदासी चहार-सू फैलती जा रही है
अंधेरा उदासियों के नौहे पढ़ रहा है
मुमटियों से फिसलता नहीं कोई कंकर
लम्हे साकित हो गए हैं
अलमारी के ख़ानों में कुछ यादें बिखरी पड़ी हैं
सामने पड़ी कुर्सी झूल रही है
सारा माहौल सोगवार है
अजीब सा डर है
जो आँसू बन कर उतर रहा है
आसमाँ सात रंग रौशनियाँ
क़हक़हे साज़ नग़्मगी
ये हुजूम साल-हा-साल की मसाफ़त है
केंचुली बदलने का एहसास
आँखों की ख़ामोशी से अथाह गहराई में उतर रहा है
मैं अभी लौट कर नहीं आई
दिल ने बरसों से रू-ए-आलम की ख़ाक छानी है
तेरी अंखों में कहीं वो ज़माने सिमट के आ गए हैं
जब कोएटा एयरपोर्ट से नम-नाकी ने तुम्हें रवाना किया
रक़्स नग़्मगी
चूड़ियों की खनक के नीचे हैं
भारी है इन सब साज़ों से
हाथ ख़ाली हैं दिल वीरान है
दायरा दायरा ये ख़ामोशी
दायरा दायरा ये तन्हाई
जिस में क़दीम आसार
मोहन-जोदाड़ो हड़प्पा बाबिल टेक्सला के
जो मेरे अंदर लम्हा लम्हा उतरते जाते हैं
मजीद अमजद
मैं फ़ासलों की कमंद की असीर
मैं तेरी शालात
रूद-बार के पुल पर बड़ी देर से खड़ी हूँ
Read Full
Janaan Malik
0 Likes
dhank-rang

pahaadi ke us paar koi dhanak hai nahin hai
dhanak ke sire par koi jadoo-nagari paristaan khazana mera muntazir hai
nahin hai
mujhe koi dhoka nahin hai
samundar ke us paar se aane waali hawaon mein koi sandesa nahin hai
agar kuchh nahin hai to saari tag-o-dau ye imroz-o-farda ke sab silsile kis liye hain
ufuq se pare margh-zaaron ki aakhir hadon tak pahunchne ki khwaahish
saraabo ke dhundle hyoolon ka peecha
ye sab kis liye hai
kisi khwaab ki koi soorat nahin hai
khushi koi tohfa nahin jo christmas ki shab koi chupke se de jaayega
main elis nahin hoon alif-lailvi shaahzaadi nahin hoon
main azraa hoon
aur mere aur zindagi ke ta'alluq se jo bhi hai duniya mein vo asliyat hai
meri shaay'ri geet sangeet
sab dil ke mausam
chaahne chahe jaane ki khwaahish mein rishton ki sangeeniyaan
kuchh rifaqat ke anmol moti
mohabbat ki shabnam mein doobi hui adh-khilee zard kaliyaan
buzurgon se paai hui sab muqaddas duaaein
zindagaani ki sab dhoop chaanv
khazana hai mera
dhank-rang mujh mein samaaye hue hain
"धनक-रंग"

पहाड़ी के उस पार कोई धनक है नहीं है
धनक के सिरे पर कोई जादू-नगरी परिस्ताँ ख़ज़ाना मिरा मुंतज़िर है
नहीं है
मुझे कोई धोका नहीं है
समुंदर के उस पार से आने वाली हवाओं में कोई संदेसा नहीं है
अगर कुछ नहीं है तो सारी तग-ओ-दौ ये इमरोज़-ओ-फ़र्दा के सब सिलसिले किस लिए हैं
उफ़ुक़ से परे मर्ग़-ज़ारों की आख़िर हदों तक पहुँचने की ख़्वाहिश
सराबों के धुँदले हयूलों का पीछा
ये सब किस लिए है
किसी ख़्वाब की कोई सूरत नहीं है
ख़ुशी कोई तोहफ़ा नहीं जो क्रिसमस की शब कोई चुपके से दे जाएगा
मैं एलिस नहीं हूँ अलिफ़-लैलवी शाहज़ादी नहीं हूँ
मैं 'अज़रा' हूँ
और मेरे और ज़िंदगी के तअ'ल्लुक़ से जो भी है दुनिया में वो असलियत है
मिरी शाइ'री गीत संगीत
सब दिल के मौसम
चाहने चाहे जाने की ख़्वाहिश में रिश्तों की संगीनियाँ
कुछ रिफ़ाक़त के अनमोल मोती
मोहब्बत की शबनम में डूबी हुई अध-खिली ज़र्द कलियाँ
बुज़ुर्गों से पाई हुई सब मुक़द्दस दुआएँ
ज़िंदगानी की सब धूप छाँव
ख़ज़ाना है मेरा
धनक-रंग मुझ में समाए हुए हैं
Read Full
Azra Naqvi
1 Like

LOAD MORE

How's your Mood?

Latest Blog