hujoom-e-gham se yaa tak sar-nigooni mujh ko haasil hai | हुजूम-ए-ग़म से याँ तक सर-निगूनी मुझ को हासिल है - Mirza Ghalib

hujoom-e-gham se yaa tak sar-nigooni mujh ko haasil hai
ki taar-e-daaman o taar-e-nazar mein farq mushkil hai

rafu-e-zakhm se matlab hai lazzat zakhm-e-sozan ki
samjhiyo mat ki paas-e-dard se deewaana ghaafil hai

vo gul jis gulsitaan mein jalwa-farmaai kare ghalib
chatkana guncha-e-gul ka sada-e-khanda-e-dil hai

hua hai maane-e-aashiq-navaazi naaz-e-khud-beeni
takalluf-bar-tarf aaina-e-tamiz haael hai

b-sail-e-ashk lakht-e-dil hai daman-geer mizgaan ka
ghairiq-e-bahr jooiya-e-khas-o-khaashaak-e-saahil hai

baha hai yaa tak ashkon mein guba-e-kulfa-e-khaatir
ki chashm-e-tar mein har ik paara-e-dil paa-e-dar-gil hai

nikalti hai tapish mein bismilon ki barq ki shokhi
garz ab tak khayal-e-garmi-e-raftaar qaateel hai

हुजूम-ए-ग़म से याँ तक सर-निगूनी मुझ को हासिल है
कि तार-ए-दामन ओ तार-ए-नज़र में फ़र्क़ मुश्किल है

रफ़ू-ए-ज़ख्म से मतलब है लज़्ज़त ज़ख़्म-ए-सोज़न की
समझियो मत कि पास-ए-दर्द से दीवाना ग़ाफ़िल है

वो गुल जिस गुल्सिताँ में जल्वा-फ़रमाई करे 'ग़ालिब'
चटकना ग़ुंचा-ए-गुल का सदा-ए-ख़ंदा-ए-दिल है

हुआ है माने-ए-आशिक़-नवाज़ी नाज़-ए-ख़ुद-बीनी
तकल्लुफ़-बर-तरफ़ आईना-ए-तमईज़ हाएल है

ब-सैल-ए-अश्क लख़्त-ए-दिल है दामन-गीर मिज़्गाँ का
ग़रीक़-ए-बहर जूया-ए-ख़स-ओ-ख़ाशाक-ए-साहिल है

बहा है याँ तक अश्कों में ग़ुबा-ए-कुल्फ़त-ए-ख़ातिर
कि चश्म-ए-तर में हर इक पारा-ए-दिल पा-ए-दर-गिल है

निकलती है तपिश में बिस्मिलों की बर्क़ की शोख़ी
ग़रज़ अब तक ख़याल-ए-गर्मी-ए-रफ़्तार क़ातिल है

- Mirza Ghalib
0 Likes

Bijli Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Bijli Shayari Shayari