phir kuchh ik dil ko be-qaraari hai | फिर कुछ इक दिल को बे-क़रारी है - Mirza Ghalib

phir kuchh ik dil ko be-qaraari hai
seena juya-e-zakhm-e-kaari hai

phir jigar khodne laga nakhun
aamd-e-fasl-e-laala-kaari hai

qibla-e-maqsad-e-nigaah-e-niyaaz
phir wahi parda-e-amaari hai

chashm dallaal-e-jins-e-ruswaai
dil khareedaar-e-zauq-e-khwari hai

wahi sad-rang naala-farsaai
wahi sad-gona ashk-baari hai

dil hawa-e-khiraam-e-naaz se phir
mahsharistaan-e-sitaan-e-beqaraari hai

jalwa phir arz-e-naaz karta hai
roz bazaar-e-jaan-sipaari hai

phir usi bewafa pe marte hain
phir wahi zindagi hamaari hai

phir khula hai dar-e-adaalat-e-naaz
garm-bazaar-e-faujdaari hai

ho raha hai jahaan mein andher
zulf ki phir sirishta-daari hai

phir diya paara-e-jigar ne sawaal
ek fariyaad o aah-o-zaari hai

phir hue hain gawaahe-e-ishq talab
ashk-baari ka hukm-jaari hai

dil o mizgaan ka jo muqaddama tha
aaj phir us ki roo-bakaari hai

be-khudi be-sabab nahin ghalib
kuchh to hai jis ki parda-daari hai

फिर कुछ इक दिल को बे-क़रारी है
सीना जुया-ए-ज़ख़्म-ए-कारी है

फिर जिगर खोदने लगा नाख़ुन
आमद-ए-फ़स्ल-ए-लाला-कारी है

क़िब्ला-ए-मक़्सद-ए-निगाह-ए-नियाज़
फिर वही पर्दा-ए-अमारी है

चश्म दल्लाल-ए-जिंस-ए-रुस्वाई
दिल ख़रीदार-ए-ज़ौक़-ए-ख़्वारी है

वही सद-रंग नाला-फ़रसाई
वही सद-गोना अश्क-बारी है

दिल हवा-ए-ख़िराम-ए-नाज़ से फिर
महशरिस्तान-ए-सितान-ए-बेक़रारी है

जल्वा फिर अर्ज़-ए-नाज़ करता है
रोज़ बाज़ार-ए-जाँ-सिपारी है

फिर उसी बेवफ़ा पे मरते हैं
फिर वही ज़िंदगी हमारी है

फिर खुला है दर-ए-अदालत-ए-नाज़
गर्म-बाज़ार-ए-फ़ौजदारी है

हो रहा है जहान में अंधेर
ज़ुल्फ़ की फिर सिरिश्ता-दारी है

फिर दिया पारा-ए-जिगर ने सवाल
एक फ़रियाद ओ आह-ओ-ज़ारी है

फिर हुए हैं गवाह-ए-इश्क़ तलब
अश्क-बारी का हुक्म-जारी है

दिल ओ मिज़्गाँ का जो मुक़द्दमा था
आज फिर उस की रू-बकारी है

बे-ख़ुदी बे-सबब नहीं 'ग़ालिब'
कुछ तो है जिस की पर्दा-दारी है

- Mirza Ghalib
0 Likes

Duniya Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Duniya Shayari Shayari