naved-e-amn hai bedaad-e-dost jaan ke liye | नवेद-ए-अम्न है बेदाद-ए-दोस्त जाँ के लिए - Mirza Ghalib

naved-e-amn hai bedaad-e-dost jaan ke liye
rahi na tarz-e-sitam koi aasmaan ke liye

bala se gar miza-e-yaar tishna-e-khoon hai
rakhoon kuchh apni bhi mizgaan-e-khoon fishaan ke liye

vo zinda ham hain ki hain roo-shanaas-e-khalq ai khizr
na tum ki chor bane umr-e-jaavedaan ke liye

raha bala mein bhi main mubtala-e-aafat-e-rashk
bala-e-jaan hai ada teri ik jahaan ke liye

falak na door rakh us se mujhe ki main hi nahin
daraaz-dasti-e-qaatil ke imtihaan ke liye

misaal ye meri koshish ki hai ki murgh-e-aseer
kare qafas mein faraham khas aashiyaan ke liye

gada samajh ke vo chup tha meri jo shaamat aayi
utha aur uth ke qadam main ne paasbaan ke liye

b-qadr-e-shauq nahin zarf-e-tangnaa-e-ghazal
kuchh aur chahiye wus'at mere bayaan ke liye

diya hai khalk ko bhi ta use nazar na lage
bana hai aish tajammul husain khan ke liye

zabaan pe baar-e-khudaaya ye kis ka naam aaya
ki mere nutq ne bose meri zabaan ke liye

naseer-e-daulat-o-deen aur mueen-e-millat-o-mulk
bana hai charkh-e-bareen jis ke aastaan ke liye

zamaana ahad mein us ke hai mahw-e-aaraish
banenge aur sitaare ab aasmaan ke liye

varq tamaam hua aur madh baaki hai
safeena chahiye is bahr-e-bekaraan ke liye

ada-e-khaas se ghalib hua hai nukta-sara
sala-e-aam hai yaaraan-e-nukta-daan ke liye

नवेद-ए-अम्न है बेदाद-ए-दोस्त जाँ के लिए
रही न तर्ज़-ए-सितम कोई आसमाँ के लिए

बला से गर मिज़ा-ए-यार तिश्ना-ए-ख़ूँ है
रखूँ कुछ अपनी भी मिज़्गान-ए-ख़ूँ फ़िशाँ के लिए

वो ज़िंदा हम हैं कि हैं रू-शनास-ए-ख़ल्क़ ऐ ख़िज़्र
न तुम कि चोर बने उम्र-ए-जावेदाँ के लिए

रहा बला में भी मैं मुब्तला-ए-आफ़त-ए-रश्क
बला-ए-जाँ है अदा तेरी इक जहाँ के लिए

फ़लक न दूर रख उस से मुझे कि मैं ही नहीं
दराज़-दस्ती-ए-क़ातिल के इम्तिहाँ के लिए

मिसाल ये मिरी कोशिश की है कि मुर्ग़-ए-असीर
करे क़फ़स में फ़राहम ख़स आशियाँ के लिए

गदा समझ के वो चुप था मिरी जो शामत आई
उठा और उठ के क़दम मैं ने पासबाँ के लिए

ब-क़द्र-ए-शौक़ नहीं ज़र्फ़-ए-तंगना-ए-ग़ज़ल
कुछ और चाहिए वुसअत मिरे बयाँ के लिए

दिया है ख़ल्क़ को भी ता उसे नज़र न लगे
बना है ऐश तजम्मुल हुसैन ख़ाँ के लिए

ज़बाँ पे बार-ए-ख़ुदाया ये किस का नाम आया
कि मेरे नुत्क़ ने बोसे मिरी ज़बाँ के लिए

नसीर-ए-दौलत-ओ-दीं और मुईन-ए-मिल्लत-ओ-मुल्क
बना है चर्ख़-ए-बरीं जिस के आस्ताँ के लिए

ज़माना अहद में उस के है महव-ए-आराइश
बनेंगे और सितारे अब आसमाँ के लिए

वरक़ तमाम हुआ और मद्ह बाक़ी है
सफ़ीना चाहिए इस बहर-ए-बेकराँ के लिए

अदा-ए-ख़ास से 'ग़ालिब' हुआ है नुक्ता-सरा
सला-ए-आम है यारान-ए-नुक्ता-दाँ के लिए

- Mirza Ghalib
0 Likes

Andaaz Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Andaaz Shayari Shayari