jis zakham ki ho sakti ho tadbeer rafu ki | जिस ज़ख़्म की हो सकती हो तदबीर रफ़ू की - Mirza Ghalib

jis zakham ki ho sakti ho tadbeer rafu ki
likh deejio ya rab use qismat mein adoo ki

achha hai sar-angusht-e-hinaai ka tasavvur
dil mein nazar aati to hai ik boond lahu ki

kyun darte ho ushshaq ki be-hauslagi se
yaa to koi sunta nahin fariyaad kisoo ki

dashne ne kabhi munh na lagaaya ho jigar ko
khanjar ne kabhi baat na poochi ho guloo ki

sad-haif vo naakaam ki ik umr se ghalib
hasrat mein rahe ek but-e-arbada-joo ki

go zindagi-e-zaahid-e-be-chaara abas hai
itna hai ki rahti to hai tadbeer wazu ki

जिस ज़ख़्म की हो सकती हो तदबीर रफ़ू की
लिख दीजियो या रब उसे क़िस्मत में अदू की

अच्छा है सर-अंगुश्त-ए-हिनाई का तसव्वुर
दिल में नज़र आती तो है इक बूँद लहू की

क्यूँ डरते हो उश्शाक़ की बे-हौसलगी से
याँ तो कोई सुनता नहीं फ़रियाद किसू की

दशने ने कभी मुँह न लगाया हो जिगर को
ख़ंजर ने कभी बात न पूछी हो गुलू की

सद-हैफ़ वो नाकाम कि इक उम्र से 'ग़ालिब'
हसरत में रहे एक बुत-ए-अरबदा-जू की

गो ज़िंदगी-ए-ज़ाहिद-ए-बे-चारा अबस है
इतना है कि रहती तो है तदबीर वज़ू की

- Mirza Ghalib
0 Likes

Budhapa Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Budhapa Shayari Shayari