muddat hui hai yaar ko mehmaan kiye hue | मुद्दत हुई है यार को मेहमाँ किए हुए - Mirza Ghalib

muddat hui hai yaar ko mehmaan kiye hue
josh-e-qadah se bazm charaaghaan kiye hue

karta hoon jam'a phir jigar-e-lakht-lakht ko
arsa hua hai daawat-e-mizgan kiye hue

phir waz-e-ehtiyaat se rukne laga hai dam
barson hue hain chaak garebaan kiye hue

phir garm-naala-ha-e-sharar-baar hai nafs
muddat hui hai sair-e-charaagaan kiye hue

phir pursish-e-jaraahat-e-dil ko chala hai ishq
saamaan-e-sad-hazaar namak-daan kiye hue

phir bhar raha hoon khaama-e-mizgaan b-khoon-e-dil
saaz-e-chaman taraazee-e-daaman kiye hue

baaham-digar hue hain dil o deeda phir raqeeb
nazzara o khayal ka saamaan kiye hue

dil phir tawaaf-e-koo-e-malaamat ko jaaye hai
pindaar ka sanam-kada veeraan kiye hue

phir shauq kar raha hai khareedaar ki talab
arz-e-mata-e-aql-o-dil-o-jaan kiye hue

daude hai phir har ek gul-o-laala par khayal
sad-gulistaan nigaah ka saamaan kiye hue

phir chahta hoon naama-e-dildaar kholna
jaan nazr-e-dil-farebi-e-unwaan kiye hue

maange hai phir kisi ko lab-e-baam par havas
zulf-e-siyaah rukh pe pareshaan kiye hue

chahe hai phir kisi ko muqaabil mein aarzoo
surme se tez dashnaa-e-mizgaan kiye hue

ik nau-bahaar-e-naaz ko taake hai phir nigaah
chehra farogh-e-may se gulistaan kiye hue

phir jee mein hai ki dar pe kisi ke pade rahein
sar zer-baar-e-minnat-e-darbaan kiye hue

jee dhundhta hai phir wahi furqat ki raat din
baithe rahein tasavvur-e-jaanaan kiye hue

ghalib hamein na chhed ki phir josh-e-ashk se
baithe hain ham tahayyaa-e-toofaan kiye hue

मुद्दत हुई है यार को मेहमाँ किए हुए
जोश-ए-क़दह से बज़्म चराग़ाँ किए हुए

करता हूँ जम्अ' फिर जिगर-ए-लख़्त-लख़्त को
अर्सा हुआ है दावत-ए-मिज़्गाँ किए हुए

फिर वज़-ए-एहतियात से रुकने लगा है दम
बरसों हुए हैं चाक गरेबाँ किए हुए

फिर गर्म-नाला-हा-ए-शरर-बार है नफ़स
मुद्दत हुई है सैर-ए-चराग़ाँ किए हुए

फिर पुर्सिश-ए-जराहत-ए-दिल को चला है इश्क़
सामान-ए-सद-हज़ार नमक-दाँ किए हुए

फिर भर रहा हूँ ख़ामा-ए-मिज़्गाँ ब-ख़ून-ए-दिल
साज़-ए-चमन तराज़ी-ए-दामाँ किए हुए

बाहम-दिगर हुए हैं दिल ओ दीदा फिर रक़ीब
नज़्ज़ारा ओ ख़याल का सामाँ किए हुए

दिल फिर तवाफ़-ए-कू-ए-मलामत को जाए है
पिंदार का सनम-कदा वीराँ किए हुए

फिर शौक़ कर रहा है ख़रीदार की तलब
अर्ज़-ए-मता-ए-अक़्ल-ओ-दिल-ओ-जाँ किए हुए

दौड़े है फिर हर एक गुल-ओ-लाला पर ख़याल
सद-गुलिस्ताँ निगाह का सामाँ किए हुए

फिर चाहता हूँ नामा-ए-दिलदार खोलना
जाँ नज़्र-ए-दिल-फ़रेबी-ए-उनवाँ किए हुए

माँगे है फिर किसी को लब-ए-बाम पर हवस
ज़ुल्फ़-ए-सियाह रुख़ पे परेशाँ किए हुए

चाहे है फिर किसी को मुक़ाबिल में आरज़ू
सुरमे से तेज़ दश्ना-ए-मिज़्गाँ किए हुए

इक नौ-बहार-ए-नाज़ को ताके है फिर निगाह
चेहरा फ़रोग़-ए-मय से गुलिस्ताँ किए हुए

फिर जी में है कि दर पे किसी के पड़े रहें
सर ज़ेर-बार-ए-मिन्नत-ए-दरबाँ किए हुए

जी ढूँडता है फिर वही फ़ुर्सत कि रात दिन
बैठे रहें तसव्वुर-ए-जानाँ किए हुए

'ग़ालिब' हमें न छेड़ कि फिर जोश-ए-अश्क से
बैठे हैं हम तहय्या-ए-तूफ़ाँ किए हुए

- Mirza Ghalib
2 Likes

Nigaah Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Nigaah Shayari Shayari