rashk kehta hai ki us ka gair se ikhlaas haif | रश्क कहता है कि उस का ग़ैर से इख़्लास हैफ़ - Mirza Ghalib

rashk kehta hai ki us ka gair se ikhlaas haif
aql kahti hai ki vo be-mehr kis ka aashna

zarra zarra saaghar-e-mai-khaana-e-nai-rang hai
gardish-e-majnoon b-chashmak-ha-e-laila aashna

shauq hai samaan-taraaz-e-naazish-e-arbaab-e-ajjz
zarra sehra-dast-gaah o qatra dariya-aashna

main aur ek aafat ka tukda vo dil-e-wahshi ki hai
aafiyat ka dushman aur aawaargi ka aashna

shikwa-sanj-e-rashk-e-ham-deegar na rahna chahiye
mera zaanoo monis aur aaina tera aashna

kohkan naqqaash-e-yak-timsaal-e-sheereen tha asad
sang se sar maar kar hove na paida aashna

khud-parasti se rahe baaham-digar na-aashnaa
bekasi meri shareek aaina tera aashna

aatish-e-moo-e-dimaagh-e-shauq hai tera tapaak
warna ham kis ke hain ai daagh-e-tamanna aashna

jauhar-e-aaina juz ramz-e-sar-e-mizgaan nahin
aashna ki hum-digar samjhe hai eemaa aashna

rabt-e-yak-sheeraaza-e-vahshat hain ajzaa-e-bahaar
sabza begaana saba aawaara gul na-aashnaa

be-dimaaghi shikwa-sanj-e-rashk-e-ham-deegar nahin
yaar tera jaam-e-may khamyaza mera aashna

रश्क कहता है कि उस का ग़ैर से इख़्लास हैफ़
अक़्ल कहती है कि वो बे-मेहर किस का आश्ना

ज़र्रा ज़र्रा साग़र-ए-मै-ख़ाना-ए-नै-रंग है
गर्दिश-ए-मजनूँ ब-चश्मक-हा-ए-लैला आश्ना

शौक़ है सामाँ-तराज़-ए-नाज़िश-ए-अरबाब-ए-अज्ज़
ज़र्रा सहरा-दस्त-गाह ओ क़तरा दरिया-आश्ना

मैं और एक आफ़त का टुकड़ा वो दिल-ए-वहशी कि है
आफ़ियत का दुश्मन और आवारगी का आश्ना

शिकवा-संज-ए-रश्क-ए-हम-दीगर न रहना चाहिए
मेरा ज़ानू मोनिस और आईना तेरा आश्ना

कोहकन नक़्क़ाश-ए-यक-तिम्साल-ए-शीरीं था 'असद'
संग से सर मार कर होवे न पैदा आश्ना

ख़ुद-परस्ती से रहे बाहम-दिगर ना-आश्ना
बेकसी मेरी शरीक आईना तेरा आश्ना

आतिश-ए-मू-ए-दिमाग़-ए-शौक़ है तेरा तपाक
वर्ना हम किस के हैं ऐ दाग़-ए-तमन्ना आश्ना

जौहर-ए-आईना जुज़ रम्ज़-ए-सर-ए-मिज़गाँ नहीं
आश्ना की हम-दिगर समझे है ईमा आश्ना

रब्त-ए-यक-शीराज़ा-ए-वहशत हैं अजज़ा-ए-बहार
सब्ज़ा बेगाना सबा आवारा गुल ना-आश्ना

बे-दिमाग़ी शिकवा-संज-ए-रश्क-ए-हम-दीगर नहीं
यार तेरा जाम-ए-मय ख़म्याज़ा मेरा आश्ना

- Mirza Ghalib
1 Like

Partition Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Partition Shayari Shayari